नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक (Union Minister Shripad Naik) मंगलवार को गोवा मेडिकल कॉलेज व अस्पताल (Goa Medical College and Hospital, GMCH) से थोड़ी देर के लिए बाहर लाया गया था। उन्हें 10 दिनों में गोवा मेडिकल कॉलेज से डिस्चार्ज किया जाएगा। 11 जनवरी को कर्नाटक में येल्लापुर (Yellapur) से गोकर्ण (Gokarna) जाने के दौरान वे सड़क दुर्घटना (Road Accident) मे जख्मी हो गए थे जबकि उनकी पत्नी व एक सहयोगी की मौके पर ही मौत हो गई थी।   

दुर्घटना के शिकार केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक को अस्पताल में भर्ती हुए एक सप्ताह से अधिक दिन हो गए। आज केंद्रीय मंत्री ने मीडिया के सामने पहला बयान दिया और कहा, 'दिन का उजाला देश मुझे राहत महसूस हुई।' उन्हें हॉस्पीटल वार्ड से गोवा मेडिकल कॉलेज परिसर में व्हील चेयर पर लाया गया था। 

उन्होंने मीडिया से कहा, ' आखिरकार मै दिन की रोशनी देख सका, भगवान और प्रत्येक इंसान का शुक्रिया।' केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चार-पांच दिनों में उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।  इस सड़क हादसे में श्रीपद नाई की पत्नी विजया नाईक (Vijaya Naik) और सेक्रेटरी दीपक घुमे (Deepak Ghume) की मौत हो गई। कार में मौजूद ड्राइवर और उनके केंद्रीय पर्सनल सिक्योरिटी अधिकारी को भी दुर्घटना के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाईक से फोन कर केंद्रीय मंत्री का हालचाल लिया था। वहीं  उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू  (Vice President M Venkaiah Naidu) और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अस्पताल का दौरा कर नाईक का हाल-चाल लिया था। दिल्ली एम्स के डॉक्टरों का एक पैनल भी गोवा अस्पताल में मौजूूूद है। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप