Move to Jagran APP

डिब्रूगढ़ जेल में विचाराधीन कैदी की मौत, परिवार ने शव लेने से किया इनकार; थाने में दायर कराया मामला

Undertrial Prisoner Dies In Dibrugarh Jail असम की डिब्रूगढ़ सेंट्रल जेल में एक विचाराधीन कैदी की मौत के बाद शुक्रवार को एक मामला पंजीकृत किया गया। घरेलू हिंसा मामले में गिरफ्तार 30 वर्षीय शैलजा बोगोहैन पिछले तीन साल से जेल में बंद था। जमानत मिलने के बाद शैलजा का परिवार गुरुवार को उसे लेने जेल पहुंचा तो उन्हें शैलजा का शव सौंपा गया।

By Agency Edited By: Sonu Gupta Sat, 15 Jun 2024 02:00 AM (IST)
डिब्रूगढ़ जेल में विचाराधीन कैदी की मौत, परिवार ने शव लेने से किया इनकार। प्रतीकात्मक फोटो।

पीटीआई, डिब्रूगढ़। असम की डिब्रूगढ़ सेंट्रल जेल में एक विचाराधीन कैदी की मौत के बाद शुक्रवार को एक मामला पंजीकृत किया गया। घरेलू हिंसा मामले में गिरफ्तार 30 वर्षीय शैलजा बोगोहैन पिछले तीन साल से जेल में बंद था। जमानत मिलने के बाद शैलजा का परिवार गुरुवार को उसे लेने जेल पहुंचा तो उन्हें शैलजा का शव सौंपा गया।

परिवार ने शव को लेने से किया इनकार

परिवार ने आरोप लगाया है कि जेल अधिकारियों ने व्हील चेयर पर शैलजा का शव सौंपने का प्रयास किया। परिवार ने शव लेने से इनकार कर दिया, जिसके बाद पुलिस ने उसे शवगृह भेज दिया।

परिवार ने की जांच की मांग

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि परिवार के सदस्यों ने डिब्रूगढ़ थाने में मामला पंजीकृत करा दिया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए असम मेडिकल कालेज भेज दिया गया। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रही है। परिवार ने शैलजा की मौत की जांच कराने की मांग की है।

यह भी पढ़ेंः

'देश का माहौल इस समय में स्पष्ट', इंद्रेश कुमार बोले- भगवान राम का विरोध करने वाले हुए सत्ता से बेदखल