नई दिल्ली, पीटीआइ। मानसून सीजन के लिए चीन ने भारत के साथ ब्रम्हपुत्र नदी का हाइड्रोलॉजिकल (जल विज्ञान संबंधी) डाटा साझा करना शुरू कर दिया है।

जल संसाधन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को आशा व्यक्त की कि एक जून से सतलुज नदी का डाटा भी साझा किया जाने लगेगा। ब्रम्हपुत्र नदी तिब्बत से निकलती है और अरुणाचल प्रदेश व असम से होती हुई बांग्लादेश के रास्ते बंगाल की खाड़ी में गिरती है। सिंधु की सहायक नदी सतलुज भी यहीं से निकलती है और भारत होती हुई पाकिस्तान में प्रवेश करती है।

चीन ने ब्रम्हपुत्र नदी की मुख्य धारा पर स्थित तीन हाइड्रोलॉजिकल स्टेशनों नुगेशा, यांगकुन और नक्सिया का डाटा उपलब्ध कराया है। ब्रम्हपुत्र को यारलुंग झंगबो भी कहा जाता है। लैंगकेन झंगबो के नाम से जानी जाने वाली सतलुज का हाइड्रोलॉजिकल डाटा तसदा स्टेशन से मुहैया कराया जाता है। बारिश के दौरान बाढ़ प्रबंधन के लिए इनकी आवश्यकता होती है।

बता दें कि डोकलाम में वर्ष 2017 में दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी के बाद चीन ने यह कहते हुए डाटा साझा करना बंद कर दिया था कि बाढ़ में डाटा एकत्रित किए जाने वाला क्षेत्र बह गया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dhyanendra Singh