नई दिल्‍ली, एजेंसियां। लॉकडाउन के चलते देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में फंसे लोग अपने घरों की ओर जैसे जैसे लौट रहे हैं... वैसे वैसे उन इलाकों में भी कोरोना संक्रमण के केस सामने आने लगे हैं। इसे देखते हुए तमाम राज्‍य सरकारें चौकन्‍ना हो गई हैं। कई मुख्‍यमंत्रियों ने बाहर से राज्‍यों में दाखिल होने वाले लोगों को चेतावनी दी है कि यदि उन्‍होंने क्‍वारंटाइन नियमों का उल्‍लंघन किया तो उनके खिलाफ सख्‍त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। यहां तक कि ऐसे लोगों को जेल भी भेजा जा सकता है। आइये जानते हैं किन राज्‍यों ने बाहर से लौटने वालों के लिए क्‍या हिदायतें दी हैं।

मणिपुर के सीएम बोले, नियम तोड़ा तो भेजेंगे जेल

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा है कि विभिन्न राज्यों और विदेशों से राज्य लौट रहे लोगों को अनिवार्य रूप से क्‍वारंटाइन सेंटर में रहना होगा। उन्‍होंने चेतावनी दी है कि ऐसा नहीं करने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया जाएगा। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि प्रोटोकॉल तोड़ने वालों को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कानून, 2005 के तहत सजा दी जाएगी। राज्‍य में लौट रहे जो भी लोग प्रोटोकॉल का पालन नहीं करेंगे उनको गिरफ्तार किया जाएगा और जेल भेज दिया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि जांच रिपोर्ट में संक्रमित नहीं पाए जाने वालों को घर में अकेले रहने की अनुमति दी जाएगी।

असम और त्रिपुरा ने दी चेतावनी

मणिपुर की तरह असम और त्रिपुरा के मुख्‍यमंत्र‍ियों ने नियमों का उल्‍लंघन करने वालों को जेल भेजने की चेतावनी दी है। असम के मुख्‍यमंत्री ने राज्‍य में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए जांच के नियमों को और सख्‍त कर दिया है। त्रिपुरा के मुख्‍यमंत्री बिप्‍लब देब ने कहा है कि बाहर से राज्‍य में दाखिल होने वाले लोग यदि नियमों को तोड़ते पाए जाएंगे तो उनके खिलाफ छह महीने तक जेल भेजने की कार्रवाई की जा सकती है। उन्‍होंने लोगों से भी बॉर्डर कर्फ्यू में मदद करने की अपील की है और बांग्‍लादेश से आने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखने को कहा है।

पंजाब में 14 दिन का होम क्‍वारंटाइन अनिवार्य 

पंजाब के मुख्‍यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि राज्‍य में बाहर से दाखिल होने वालों के लिए 14 दिन का होम क्‍वारंटाइन पीरियड का पालन करना अनिवार्य है। नियम तोड़ने वालों के साथ सख्‍ती की जाएगी। उन्‍होंने बताया कि बाहर से आने वाले सभी लोगों की रेलवे स्‍टेशनों और एयरपोर्टों पर सघन स्‍क्रीनिंग की जाएगी। रैपिड टेस्टिंग टीमें होम क्‍वारंटाइन के लिए भेजे गए लोगों की मॉनिटर‍िंग करेंगी। असम में एक दिन में 87 नए केस मिले हैं। एक दिन में राज्य में मिले यह सबसे बड़ी संख्या है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत विश्व सरमा ने लोगों से कहा कि बहुत जरूरी तभी वो असम लौटें। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस