नई दिल्ली, एएनआइ। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामला पिछले कई दिनों से गरमाया हुआ है। राजपूत की मौत के मामले में डॉ गुप्ता की अगुवाई वाली टीम में एम्स के एक डॉक्टर ने खुलासा किया कि सुशांत की मौत गला घोंटने से हुई है। इस पर रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा कि तस्वीरों के निष्कर्ष निकलाना खतरनाक प्रवृत्ति है। जांच को निष्पक्ष रखने के लिए, CBI को नए मेडिकल बोर्ड का गठन करना चाहिए।

मानशिंदे ने आगे कहा कि बिहार चुनाव से पहले स्पष्ट कारणों के लिए पूर्व निर्धारित परिणाम तक पहुंचने के लिए एजेंसियों पर दबाव डाला जा रहा है। हमने डीजीपी पांडे के वीआरएस को कुछ दिन पहले ही देखा है।

मानशिंदे ने  नए मेडिकल बोर्ड के गठन की मांग भी की है। उन्होंने अपने एक बयान में कहा कि सुशांत सिंह राजपूत केस में डॉक्टर गुप्ता की अध्यक्षता में बनाई गई टीम के एक डॉक्टर का एक फोटो के आधार पर 200 प्रतिशत पर निष्कर्ष पर पहुंच जाना सही नहीं है ये बेहद खतरनाक चलन है। 

रिया चक्रवर्ती के वकील ने सतीश मानशिंदे ने सुशांत के केस की जांच पर बिहार इलेक्शन से प्रभावित होने की बात कही। उन्होंने आगे कहा कि जाहिर सी बात है कि बिहार के चुनावों के कारण एजेंसियों पर जांच में पहले से सोचे हुए रिजल्ट पर पहुंचने का दबाव बनाया जा रहा है।

हालांकि, इससे पहले सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह ने कहा था कि सुशांत के परिवार को लगता है कि जांच एक अलग दिशा में जा रही है। इसका पूरा ध्यान ड्रग्स मामले की तरफ ले जाया जा रहा है। एम्स के डॉक्टर ने मुझे बताया की सुशांत की मौत गला दबाने से हुई थी। उन्होंने आगे कहा कि आज हम असहाय हैं क्योंकि, हम नहीं जानते हैं कि मामला किस दिशा में जा रहा है। आज तक सीबीआई को जो कुछ भी सबूत मिले उसे लेकर कोई भी  प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं की है। जिस स्पीड से केस को चलाया जा रहा है उससे मैं नाखुश हूं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस