Move to Jagran APP

NEET पेपर लीक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने NTA और सरकार को भेजा नोटिस, CBI जांच की मांग को लेकर भी मांगा जवाब

न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की अवकाश पीठ हितेन सिंह कश्यप की तरफ से दायर सीबीआई जांच की मांग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी। सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा गया कि अन्य लंबित जनहित याचिकाओं पर आठ जुलाई को सुनवाई होगी और NTA से CBI जांच को लेकर जवाब मांगा है। परीक्षा 5 मई को 4750 केंद्रों पर आयोजित की गई थी।

By Agency Edited By: Shubhrangi Goyal Fri, 14 Jun 2024 01:53 PM (IST)
सुप्रीम कोर्ट ने NTA से मांगा जवाब (File photo)

पीटीआई, नई दिल्ली। एनईईटी-यूजी (NEET-UG) पर बढ़ते विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने परीक्षा में प्रश्नपत्र लीक और अन्य अनियमितताओं के आरोपों की सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका पर केंद्र और एनटीए से जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति विक्रम नाथ और न्यायमूर्ति संदीप मेहता की अवकाश पीठ, हितेन सिंह कश्यप की तरफ से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

हितेन सिंह कश्यप ने  इस मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और बिहार सरकार से दो हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है। इसमें कहा गया है कि अन्य लंबित जनहित याचिकाओं पर आठ जुलाई को विचार किया जाएगा, जब शीर्ष अदालत गर्मी की छुट्टियों के बाद कामकाज शुरू करेगी।

1 हजार से ज्यादा उम्मीदवारों के अंक किए रद्द

केंद्र और राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उन्होंने एमबीबीएस और ऐसे अन्य पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए परीक्षा देने वाले 1,563 उम्मीदवारों को दिए गए अंक रद्द कर दिए हैं।

केंद्र ने कहा था कि उनके पास या तो दोबारा परीक्षा देने या समय की हानि के लिए उन्हें दिए गए क्षतिपूर्ति अंक वापस लेने का विकल्प होगा। नोटिस में कहा गया है, NEET रिजल्‍ट में ग्रेस मार्क्‍स पाने वाले 1563 कैंडिडेट्स का रिएग्‍जाम होगा, ये 23 जून को आयोजित किया जाएगा।

24 लाख उम्मीदवार हुए थे शामिल

जानकारी के लिए बता दें कि परीक्षा 5 मई को 4,750 केंद्रों पर आयोजित की गई थी और लगभग 24 लाख उम्मीदवार इसमें शामिल हुए थे। परिणाम 14 जून को घोषित होने की उम्मीद थी, लेकिन 4 जून को घोषित किए गए, क्योंकि उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन पहले ही पूरा हो गया था।

हाईकोर्ट में दर्ज हैं सात मामले

इस प्रतिष्ठित परीक्षा में बिहार जैसे राज्यों में प्रश्न पत्र लीक और अन्य अनियमितताओं के आरोप लगे हैं। आरोपों के कारण कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हुए और सात मामले हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में दायर किये गये। बता दें कि देश भर के सरकारी और निजी संस्थानों में एमबीबीएस, बीडीएस, आयुष और अन्य संबंधित पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एनटीए द्वारा एनईईटी-यूजी परीक्षा आयोजित की जाती है। 

यह भी पढ़ें: 'अभी वार ऑफ पोजिशन चल रहा है... RSS नेता इंद्रेश कुमार ने BJP को बताया अहंकारी तो मनोज झा ने दिया ये जवाब

यह भी पढ़ें: ..तो संसद में इन मुद्दों को उठाएंगे चंद्रशेखर, पहले ही खोल दिए अपने पत्ते; मौलाना सज्जाद ने दी सलाह