मुंबई। बॉलीवुड के पहले सुपर स्टार राजेश खन्ना अब ऊपर सितारों के पहुंच चुके हैं। उनके दामाद अक्षय कुमार के बेटे आरव ने उन्हें मुखाग्नि देकर अंतिम विदाई दी। इस दौरान उनके प्रशंसकों का हुजूम उमड़ पड़ा था। मगर अपने चहेते अभिनेता की अंतिम झलक पाने को आए प्रशंसकों का दिल उस वक्त टूट गया जब पुलिस ने उन पर लाठियां बरसाने लगी। काका के अंतिम संस्कार के लिए प्रशासन के इंतजाम नाकाफी साबित हुए। अमिताभ, अभिषेक, रणधीर कपूर, राजीव कपूर सरीखे कलाकार जब भीड़ में धक्का मुक्की का शिकार हुए, तो पुलिस को लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा।

आज सुबह उनकी अंतिम यात्रा उनके घर से शुरू हुई थी। उनके शव को एक खुले ट्रक में रखा गया था। बारिश होने के बावजूद ट्रक के पीछे सुपर स्टार के प्रशसकों की भीड़ उमड़ पड़ी। करीब 11 बजे उनका अंतिम संस्कार हुआ। अक्षय-ट्विंकल के बेटे आरव ने राजेश खन्ना को मुखाग्नि दी। राजेश खन्ना ने बुधवार को लीवर की गंभीर बीमारी से जूझते हुए अपने घर 'आशीर्वाद' में अंतिम सास ली। राजेश को कुछ दिन पहले ही अस्पताल से छुट्टी मिली थी। लग रहा था कि उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है, लेकिन अचानक फिर उनकी सेहत खराब हुई और डॉक्टरों ने जवाब दे दिया।

आखिरी वक्त में उनके साथ परिवार के लोग मौजूद थे। पत्‍‌नी डिंपल कपाड़िया, बेटिया ट्विंकल खन्ना और रिंकी, दामाद अक्षय कुमार काफी समय से उनकी देखभाल कर रहे थे। 'काका' के नाम से मशहूर अमृतसर में जन्मे राजेश खन्ना के निधन की खबर से बॉलीवुड और इस सुपर सितारे के चाहने वाले स्तब्ध रह गए।

इसके बाद उनके बंगले 'आशीर्वाद' में फिल्मी हस्तियों समेत सैकड़ों लोगों का ताता लग गया। शोकाकुल परिवार को सात्वना देने के लिए अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, शाहरुख खान, सलमान खान, प्रेम चोपड़ा, ऋषि कपूर और अन्नू मलिक पहुंचे। बंगले के बाहर राजेश खन्ना के प्रशसकों की भीड़ बढ़ती गई। कई प्रशसकों ने फूट-फूट कर रोना शुरू कर दिया। आसानी से महसूस किया जा सकता था कि नई पीढ़ी के बीच भी राजेश खन्ना की लोकप्रियता कम नहीं थी।

राजेश खन्ना के निधन के साथ हिंदी फिल्मों के इतिहास में रोमास का एक युग खत्म हो गया। उन्होंने दिलीप कुमार, देव आनंद और राज कपूर की रोमाटिक त्रयी और शम्मी कपूर तथा राजेंद्र कुमार जैसे रूमानी नायकों के शिखर के दिनों में अपने करियर की शुरुआत 1965 में की थी।

इन सबके बीच उन्होंने अपने पलक झपकने के अनूठे अंदाज और मोहक मुस्कान से दर्शकों के दिल में सबसे खास जगह बनाई। राजेश खन्ना को यूं ही पहला सुपरस्टार नहीं कहा जाता। 180 से ज्यादा फिल्मों में काम करने वाले इस शानदार अभिनेता ने 1969 से 1972 के बीच अकेले दम पर लगातार पंद्रह सुपर हिट फिल्में दी थीं। यह ऐसा रिकॉर्ड है, जो चार दशक बाद आज भी कायम है।

और अमिताभ रो पड़े

अपने पुराने दिनों के साथी राजेश खन्ना के घर पर उनके पार्थिव शरीर को देख कर अमिताभ बच्चन खुद को रोक न सके और रो पड़े। उन्होंने राजेश खन्ना के पैर छुए और पास ही उनकी पत्‍‌नी डिंपल कपाड़िया के पास खामोश बैठ गए। उनकी आखें आसुओं से तर थीं। अमिताभ 20 मिनट तक वहा ठहरे और फिर उठ कर चुपचाप चले गए।

-फिल्म 'आनंद' में राजेश खन्ना

-किसने क्या कहा

राजेश खन्ना ने हमें प्रेम करना सिखाया। उन्होंने ही हमें इस अभिव्यक्ति से रू-ब-रू कराया, जिससे हम खुश रहना सीखें।

- अभिनेता अनुपम खेर

वो जादू, वो तौर-तरीके! भारतीय सिनेमा पर राजेश खन्ना की छाप बरकरार है और हमेशा रहेगी।

-करन जौहर

-जब हम अपने किसी करीबी को खो देते हैं तो हमारे भीतर का कुछ मर जाता है। हमारी पीढ़ी राजेश खन्ना से प्यार करती है। इस सितारे के साथ हम सबके भीतर के कुछ अंशों की मौत हुई है। -निर्देशक महेश भट्ट

उनके जैसा सुपरस्टार कोई और नहीं है। मैने उनके साथ दस फिल्में की है। अप्सरा अवार्ड समारोह में उनसे भेंट हुई, उनके मुस्कराहट की चमक तब भी पहले जैसी थी। - शबाना आजमी

राजेश खन्ना के निधन से मुझे अत्यंत दुख पहुंचा है। वह फिल्मी दुनिया के सबसे सफल और सबसे आकर्षक नायकों में से थे। उन्होंने जिन बेहतरीन फिल्मों में काम किया, उनके माध्यम से सदा हमारे साथ रहेंगे। मैं उनकी आत्मा की शाति के लिए प्रार्थना करता हूं। -मनमोहन सिंह

उनकी मुस्कान हमेशा याद आएगी। वह मुस्कान.. जिसे देख कर कोई भी मुस्काए बिना नहीं रह सकता था। उनकी फिल्में हमारे युग की दास्तान कहती हैं। जब कभी जिंदगी मुश्किल लगने लगती है, उनकी फिल्में देख कर अहसास होता है कि कैसे प्रेम से सब कुछ बदला जा सकता है।

-शाहरुख खान

मैं जानती हूं कि राजेश खन्ना के करोड़ों प्रशसकों के दिल में कितना दुख होगा। मैं भी बहुत दुखी हूं.. देखी जमाने की यारी बिछड़े सभी बारी बारी! - मुमताज, लंदन में

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर