जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। स्वच्छता को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'वेस्ट टु वेल्थ' का नारा देकर युवाओं को स्वच्छता के क्षेत्र में स्टार्ट अप शुरू करने का न्योता दिया। आकाशवाणी पर रविवार को 'मन की बात' में मोदी ने स्वच्छता में लोगों की बढ़ी जागरूकता पर प्रसन्नता जाहिर की। उन्होंने कहा देश के सवा सौ अरब देशवासियों ने 'एक कदम स्वच्छता की ओर' आगे बढ़ाया है।

'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वच्छता स्वभाव बनना चाहिए और गंदगी के प्रति नफरत का माहौल बनना चाहिए। स्वच्छता की दिशा में देशवासियों ने जिस तरह आगे कदम बढ़ाया है, उसका नतीजा बहुत सुखद होगा। सामान्य जन से लेकर सार्वजनिक स्थल, सरकारी, सामाजिक व धार्मिक स्थल तक में सफाई के प्रति जागरूकता पैदा हुई है।

प्रधानमंत्री ने शानदार शुरुआत से कामयाब होने का विश्वास जताया। तभी तो ग्रामीण भारत में अब तक ढाई करोड़ शौचालय बना लिये गये हैं।आगामी एक साल में डेढ़ करोड़ अतिरिक्त शौचालयों का निर्माण करा लिया जाएगा। बीमारियों से छुटकारा और महिलाओं के सम्मान के लिए खुले में शौच की आदत बंद होनी चाहिए। खुले में शौच मुक्त समाज के लिए राज्य, जिले और गांव-गांव के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा शुरू हो चुकी है।

पढ़ें- पाक को पीएम मोदी का संदेश, हिंदुस्तान न कभी झुका है और न ही झुकेगा

आंध्र प्रदेश, गुजरात और केरल खुले में शौच मुक्त होने के कगार पर हैं। प्रधानमंत्री ने युवा उद्यमियों को स्वच्छता के क्षेत्र में कचरे को उद्यम में तब्दील करने के लिए स्टार्ट अप शुरू कर सकते हैं। सरकार ने 2019 तक देश में कुल 430 मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया है।

स्वच्छता मिशन के बारे में हर तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए सरकार ने एक टोल नंबर 1969 बनाया है। इस नंबर पर फोन कर अपने शहर के शौचालयों के निर्माण की पूरी जानकारी पा सकते हैं। इसी नंबर पर फोन कर आप अपने यहां शौचालय बनाने का आवेदन भी कर सकते हैं। सफाई से जुड़ी शिकायतें भी यहां दर्ज कराई जा सकती हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस