नई दिल्ली, प्रेट्र। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत पहली बार 80 रुपये के पार निकल गई। दिल्ली में रविवार को पेट्रोल की कीमत बढ़कर 80.50 रुपये और डीजल की कीमत बढ़कर 72.61 रुपये प्रति लीटर हो गई है। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर होने और विश्व बाजार में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने की वजह से पेट्रोल व डीजल के मूल्य में लगातार वृद्धि हो रही है।

ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के अनुसार रविवार को मुंबई में पेट्रोल 87.89/ली और डीजल 77.09 रुपये प्रति लीटर हो गया है। वहीं, कोलकाता में पेट्रोल 83.39/ली और डीजल 75.46 रुपये प्रति लीटर पर बिक रहा है। विभिन्न राज्यों में वैट की दर अलग-अलग होने की वजह से पेट्रोलियम उत्पादों के मूल्य में भारी अंतर है। राज्य करों के भार के कारण ही दिल्ली में पेट्रोल व डीजल देश के महानगरों और राज्यों की राजधानियों में सबसे सस्ता है। जबकि मुंबई में ये उत्पाद सबसे ज्यादा महंगे हैं।

पेट्रोलियम उत्पादों के मूल्य में लगातार वृद्धि के विरोध में विपक्षी दलों ने 10 सितंबर को भारत बंद का आयोजन किया है। लगातार मूल्य वृद्धि होने के कारण इन उत्पादों के उत्पाद शुल्क में कमी की मांग फिर जोड़ पकड़ने लगी है। हालांकि केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के मूल्य में तेजी आ रही है। इस वजह से पेट्रोल व डीजल मंहगे हो रहे हैं।

मध्य सितंबर से पेट्रोल की कीमत 3.24 रुपये और डीजल की 3.74 रुपये प्रति लीटर बढ़ चुकी है। डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट आने की वजह से भी इन उत्पादों की कीमत बढ़ रही है। रुपये में गिरावट से कच्चे तेल का आयात महंगा पड़ता है। इसके अलावा केंद्र व राज्य सरकारों के करों की वजह से कीमत काफी ज्यादा है। इन उत्पादों की कीमत करीब आधा हिस्सा करों का ही है।

केंद्र सरकार इस समय पेट्रोल पर 19.48 रुपये और डीजल पर 15.33 रुपये प्रति लीटर उत्पाद शुल्क लगाती है। कीमत में उत्पाद शुल्क जुड़ने के बाद राज्यों के टैक्स लगते हैं। मुंबई में पेट्रोल पर सबसे ज्यादा 39.12 फीसद वैट लगता है जबकि तेलंगाना में डीजल पर सबसे ज्यादा 26 फीसद वैट लग रहा है। दिल्ली में पेट्रोल पर 27 फीसद और डीजल पर 17.24 फीसद वैट लगता है।

 

Posted By: Ravindra Pratap Sing