ओमप्रकाश तिवारी, मुंबई। ED arrests Shiv Sena MP Sanjay Raut: प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने शिवसेना के प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य संजय राउत को लगभग 16 घंटे तक चली लंबी पूछताछ के बाद रविवार को देर रात गिरफ्तार कर लिया। राउत पर यह कार्रवाई 1,034 करोड़ रुपयों के पत्रा चाल घोटाले के सिलसिले में हुई है। संजय राउत के भाई सुनील राउत ने कहा कि संजय राउत को गिरफ्तार कर लिया गया है। भाजपा उनसे डरती है। ईडी के अधिकारियों ने हमें गिरफ्तारी के संबंध में कोई दस्तावेज नहीं दिए हैं। संजय राउत को सोमवार को सुबह 11.30 बजे कोर्ट में पेश किया जाएगा। 

तलाशी के साथ साथ पूछताछ भी कर रही थी एजेंसी

मुंबई के चर्चित पत्रा चाल घोटाले से संबंधित मनी लांड्रिंग के मामले में संजय राउत से ईडी ने एक जुलाई को नौ घंटे पूछताछ की थी। उन्हें उसके बाद भी कई बार पूछताछ के लिए ईडी कार्यालय पहुंचने का समन दिया गया था, लेकिन वह नहीं पहुंचे। रविवार सुबह सात बजे ईडी की टीम राउत के दादर एवं भांडुप स्थित आवासों पर पहुंच गई। दोनों घरों की तलाशी के साथ-साथ ईडी अधिकारियों ने दादर स्थित घर पर संजय राउत से पूछताछ भी शुरू कर दी थी।

ऐसे चला घटनाक्रम

  • 7.00 बजे (सुबह) ईडी की टीम संजय राउत के घर पहुंची, छापे के साथ पूछताछ शुरू
  • 4.00 बजे (शाम) राउत को ईडी दफ्तर ले जाया गया
  • 5.30 बजे (शाम) दोबारा पूछताछ शुरू हुई
  • 10.00 बजे (रात) दिल्ली से ईडी के दफ्तर पहुंचे अतिरिक्त निदेशक सत्यव्रत कुमार
  • आखिरकार ईडी ने देर रात को संजय राउत को गिरफ्तार कर लिया  

आखिरकार हिरासत में राउत 

करीब नौ घंटे चली पूछताछ के बाद ईडी अधिकारियों ने उनसे दक्षिण मुंबई स्थित ईडी कार्यालय चलने को कहा। राउत द्वारा इन्कार करने पर ईडी ने शाम करीब चार बजे उन्हें हिरासत में ले लिया। ईडी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राउत के घर से 11.50 लाख रुपये नकद मिले हैं। राउत ने ईडी को बताया कि इसमें से 10 लाख रुपये पार्टी के हैं, जबकि डेढ़ लाख रुपये उन्होंने घर की मरम्मत के लिए रखे थे। ईडी ने संजय राउत को रविवार देर रात को गिरफ्तार कर लिया।  

सुप्रीम कोर्ट करेगा विधायकों की अयोग्यता मामले पर सुनवाई

उल्लेखनीय है कि ईडी की यह कार्रवाई ऐसे समय हुई है जब सोमवार को सुप्रीम कोर्ट शिवसेना के बागी विधायकों की अयोग्यता से जुड़े मामले पर सुनवाई करने वाला है।

शिवसैनिकों ने किया प्रदर्शन

राउत को हिरासत में लिए जाने के बाद उनके घर व ईडी कार्यालय के बाहर और पुणे सहित महाराष्ट्र में और भी कुछ स्थानों पर शिवसैनिकों ने प्रदर्शन किए। राउत भी अपने घर के बाहर जमा शिवसैनिकों की ओर हाथ लहराते हुए ईडी अधिकारियों के साथ बाहर निकले।  

वकील ने कहा, जब्‍त किए कुछ दस्‍तावेज

मीडिया से बातचीत में राउत के वकील विक्रांत सबने ने कहा कि ईडी को जो दस्तावेज महत्वपूर्ण लगे, वो उन्होंने पहले ही ले लिए। संपत्ति के कुछ दस्तावेज जब्त किए गए हैं, लेकिन कोई भी दस्तावेज पत्रा चाल से जुड़ा हुआ नहीं है। 

कार्रवाई शुरू होते ही किए चार ट्वीट

रविवार सुबह ईडी की कार्रवाई शुरू होने के कुछ देर बाद ही संजय राउत ने एक के बाद एक चार ट्वीट कर अपना संदेश शिवसैनिकों तक पहुंचाने की कोशिश की। उन्होंने पहले ट्वीट में लिखा कि मैं बालासाहब ठाकरे की शपथ लेकर कहता हूं कि मेरा किसी घोटाले से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने हमें लड़ना सिखाया है। हम शिवसेना के लिए लड़ते रहेंगे। इसके बाद उन्होंने लिखा कि खोटी कार्रवाई, खोटे सुबूत। मैं मर जाऊंगा, लेकिन शिवसेना नहीं छोड़ूंगा।

क्‍या संदेश देना चाहते हैं राउत 

ऐसा लिखकर राउत ने यह संदेश देने की कोशिश की कि शिवसेना के उद्धव गुट को छोड़कर एकनाथ शिंदे गुट में जाने वाले ईडी से डरकर ऐसा कर रहे हैं। राउत ने अपने एक और ट्वीट में लिखा कि महाराष्ट्र एवं शिवसेना लड़ती रहेगी।

उद्धव बोले, रची जा रही पार्टी को खत्म करने की साजिश

राउत पर ईडी की कार्रवाई शुरू होने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी कहा कि ईडी के मेहमान संजय राउत के घर पहुंच चुके हैं। वह गिरफ्तार किए जा सकते हैं। ये क्या साजिश है? शिवसेना हिंदुओं और मराठी लोगों को ताकत देने का काम कर रही है और दूसरी ओर पार्टी को खत्म करने की साजिश रची जा रही है।

क्या है पत्रा चाल घोटाला

मुंबई के गोरेगांव उपनगर में महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथारिटी (म्हाडा) की 47 एकड़ जमीन पर टीन के पतरे वाली चाल (खोलियां) बनाकर 500 से ज्यादा परिवार रहते थे। 2007 में इसी भूखंड पर फ्लैट बनाकर वहां पहले से रह रहे परिवारों को देने और बाकी फ्लैट म्हाडा व इसे विकसित करने वाली कंपनी को हस्तांतरित करने की योजना बनाई गई थी।

भूखंड बेचने का अधिकार नहीं था फ‍िर भी बेचा क्‍यों

भूखंड पर फ्लैट बनाने का काम गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया। इस कंपनी के साथ हुए समझौते के अनुसार भूखंड पर कुल 3,000 फ्लैट बनाए जाने थे। इनमें से 672 फ्लैट वहां पहले से चालों में रह रहे परिवारों को दिए जाने थे। निर्माण कंपनी को यह भूखंड बेचने का अधिकार नहीं था। आरोप है कि इस जमीन को समझौते का उल्लंघन करते हुए 1,034 करोड़ रुपये में नौ अलग-अलग भवन निर्माताओं को बेच दिया गया और एक भी फ्लैट नहीं बनाया गया।

संजय राउत की पत्नी के खाते में भेजी गई रकम

भूखंड बिकने से मिले पैसों में से कुछ राशि कंपनी के निदेशकों ने अपने करीबियों को हस्तांतरित कर दी। इसी दौरान गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी के एक निदेशक प्रवीण राउत की पत्नी माधुरी राउत के खाते से 55 लाख रुपये संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत के खाते में ट्रांसफर किए गए। 2020 में महाराष्ट्र में हुए पीएमसी बैंक घोटाले के दौरान यह पता चला। उसके बाद से ही ईडी प्रवीण राउत और माधुरी राउत के अलावा संजय राउत व उनकी पत्नी वर्षा से पूछताछ करती आ रही है। अप्रैल में एजेंसी ने वर्षा और उनके दो सहयोगियों से जुड़ी करीब 11.15 करोड़ रुपये की संपत्तियों को कुर्क किया था।

Edited By: Krishna Bihari Singh