नई दिल्ली, एएनआइ। दक्षिण अफ्रीका से शुरुआत करने वाले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन से संक्रमित मरीजों ने स्वाद या गंध जाने की शिकायत नहीं की है और न ही इनके नाक बंद हैं या फिर शरीर का तापमान काफी अधिक है। साउथ अफ्रीकी मेडिकल एसोसिएशन की चेयरपर्सन एंजेलिक कोटेज (Angelique Coetzee) ने गुरुवार को एएनआइ से बताया कि ओमिक्रोन के अधिकतर मामलों में थकान की शिकायत आई है। इस नए वैरिएंट के संक्रमितों ने शरीर में दर्द की शिकायत की है। वही कुछ संक्रमितों ने तेज सिर दर्द और काफी अधिक थकान की बात कही है। लेकिन किसी ने स्वाद या गंध जाने की बात नहीं कही और न ही इनके नाक में ब्लाकेज या तेज बुखार के मामले हैं।

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के मामले दुनिया के तीस देशों में दर्ज किए गए हैं। हालांकि इसे अत्यधिक संक्रामक बताया जा रहा है लेकिन जहां तक इसके लक्षणों की बात है वह पुराने वैरिएंट से बिल्कुल ही अलग है। सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पहचाने गए घातक कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के बारे में अभी किसी के पास बहुत अधिक जानकारी नहीं है। लेकिन मध्य नवंबर में सामने आए इस वैरिएंट की चपेट में अब तक दुनिया के करीब तीस देश आ चुके हैं।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट- 

प्रोफेसर एन वोन गोटबर्ग ने कहा कि जो लोग पहले संक्रमित हो चुके थे उन्हें डेल्टा वैरिएंट की चपेट में आने पर ज्यादा दिक्कत नहीं हुई। लेकिन ओमिक्रोन के मामले में ऐसा नहीं लगता। हालांकि दक्षिण अफ्रीका के विज्ञानियों ने अब तक जो अध्ययन किए हैं उनका हवाला देते हुए कहा कि पहले संक्रमित हो चुके जो लोग ओमिक्रोन की चपेट में आ रहे हैं उनमें बीमारी के हल्के लक्षण पाए गए हैं। यूरोपीय यूनियन की सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसी यूरोपियन सेंटर फार डिसीज प्रेवेंशन एंड कंट्रोल (ईसीडीसी) ने कहा कि अगले कुछ महीनों में यूरोप के कोरोना संक्रमण के आधे से ज्यादा मामलों के लिए ओमिक्रोन जिम्मेदार होगा। 

Edited By: Monika Minal