जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच सैन्य तनाव भले ही काफी चरम पर पहुंच रहा हो लेकिन दोनों देशों के बीच वार्ताओं का दौर आगे भी जारी रहेगा। मंगलवार को दोनो देशों के सैन्य कमांडर स्तरीय बातचीत के बाद अब अगले दौर में सीमा विवाद सुलझाने के लिए विदेश मंत्रालयों के स्तर पर बातचीत होगी। यह बातचीत वर्किग मेकानिज्म फॉर कंसलटेशन एंड कोआर्डिनेशन (WMCC) के स्तर पर होगी। इसकी एक बैठक दो हफ्ते पहले भी हुई थी। वैसे भारत ने गुरुवार को भी यह उम्मीद जतायी है कि चीन दोनों पक्षों के बीच हुई बातचीत में बनी सहमति को लागू करने के लिए आगे आएगा ताकि सीमा पर जल्दी से शांति बहाली हो सके।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, 'दोनों पक्ष सैन्य व कूटनीतिक स्तर की बातचीत आगे भी जारी रखेंगे ताकि जो विवाद उत्पन्न हुआ है उसका संतोषप्रद समाधान निकाला जा सके। बातचीत डब्लूएमसीसी के तहत भी होने वाली है। हम उम्मीद करते हैं कि चीन पक्ष पूर्व में सैन्य व कूटनीतिक स्तर पर बनी बातचीत में जो सहमति बनी थी उसे लागू करने के लिए जरूरी कदम उठाएगा। यह शांति व स्थायित्व बहाली के लिए बहुत जरूरी है।'

तीन बार सैन्य स्तर पर और तीन बार कूटनीतिक स्तर पर हो चुकी है बातचीत

सनद रहे कि भारत व चीन के बीच पिछले सात हफ्तों से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में जारी सैन्य तनाव को खत्म करने के लिए अभी तक तीन बार सैन्य स्तर पर और तीन बार कूटनीतिक स्तर की बातचीत हो चुकी है। इसके अलावा दोनो देशों के विदेश मंत्रियों की भी एक बार टेलीफोन पर बातचीत हुई है। 15 जून को दोनों सेनाओं के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद भी वार्ता का दौरा जारी है। हालांकि सैन्य तैनाती में कोई बदलाव नहीं आया है। दोनो तरफ से भारी संख्या में सैनिकों की तैनाती की जा रही है।

Edited By: Dhyanendra Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट