जागरण संवाददाता, मुंबई। महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कद्दावर नेता रहे स्वर्गीय गोपीनाथ मुंडे की दोनों पुत्रियों पंकजा व प्रीतम के चमत्कार भी इस चुनाव में देखने को मिले। मुंडे के निधन से खाली हुई बीड लोकसभा सीट से उनकी मंझली पुत्री प्रीतम खाडे ने तो इतिहास ही रच दिया। प्रीतम को 9,22,416 मत मिले।

उन्होंने पूर्व मंत्री व कांग्रेस उम्मीदवार अशोक पाटिल को 6,96,321 मतों से पराजित किया। पाटिल को 2,26,095 वोट ही मिल पाए। प्रीतम के विरुद्ध किसी बड़े दल ने उम्मीदवार नहीं खड़ा किया था। प्रीतम से पहले लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी जीत का श्रेय माकपा के अनिल बसु के नाम था।

उन्होंने 2004 के लोकसभा चुनाव में 5,92,502 मतों से जीत हासिल की थी। इसी तरह पंकजा मुंडे ने पर्ली विधानसभा सीट से अपने चचेरे भाई धनंजय मुंडे को 25, 895 मतों से हराया है।

पांच सबसे बड़ी जीत:

प्रीतम मुंडे - 6,96,321

अनिल बसु - 5,92,502

पीवी नरसिम्हा राव - 5.8 लाख

नरेंद्र मोदी - 5.7 लाख

जगन मोहन रेड्डी - 5,21,000

मराठवाड़ा में दबदबा:

मुंडे की बड़ी पुत्री पंकजा पालावे मुंडे की मेहनत विधानसभा चुनाव में नजर आई। पिता के निधन के एक माह बाद ही राज्य भर में उनके द्वारा निकाली गई संघर्ष यात्रा का ही परिणाम है, जिसके चलते मराठवाड़ा क्षेत्र में इस बार भाजपा को 15 सीटें मिलीं। जबकि मुंडे के रहते हुए पिछले चुनावों में भाजपा सिर्फ तीन सीटें ही इस क्षेत्र से हासिल कर पाई थी।

पढ़ें: गडकरी को महाराष्ट्र की कमान संभालने का प्रस्ताव

हरियाणा में भाजपा सरकार, महाराष्ट्र में मित्र की दरकार

Posted By: Sachin k