मुंबई, एएनआइ। मुंबई के कुर्ला स्थित नाइक नगर में सोमवार देर रात चार मंजिला इमारत ढह गई। मलबे में दबने से 10 लोगों की मौत हो गई है। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री सुभाष देसाई ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा देने और घायलों का मुफ्त इलाज कराने की घोषणा की है। एनडीआरएफ ने जानकारी दी है कि कुर्ला इमारत ढहने की जगह पर तलाशी और बचाव अभियान समाप्त किया जा चुका है। मलबे में फंसे लोगों को निकालने के लिए दमकल और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची थी। बृहन्मुंबई महानगर पालिका (BMC) के अनुसार, मलबे के नीचे से बचाए गए 12 लोगों की हालत स्थिर है।  बीएमसी के कल रात के आंकड़ों के अनुसार, मलबे में 20-25 लोगों के फंसे होने की संभावना के साथ 7 लोगों को बचाया गया। 

मुंबई पुलिस के अनुसार, कुर्ला की इमारत ढहने से 15 घायल और कुल 19 लोग मारे गए। अन्य मकान मालिकों और एक दिलीप बिस्वास के खिलाफ आइपीसी की धारा 304(2), 308, 337, 338 और 34 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पार्षद प्रवीण मोराजकर ने यहां मीडियाकर्मियों को बताया, 'नाइक नगर में एक चार मंजिला इमारत ढह गई। दमकल की टीम और पुलिस के द्वारा बचाव अभियान चलाया जा रहा है।' पार्षद ने कहा, 'मलबे के नीचे से बचाए गए सात लोगों की हालत स्थिर है। 

आदित्य ठाकरे घटनास्थल पर पहुंचे 

महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी सोमवार देर रात घटनास्थल पर आकर स्थिति का जायजा लिया। आदित्य ठाकरे ने कहा कि अभी तक 5 से लेकर 7 लोगों को निकाला गया है, उन्हें अस्पताल ले जाया गया है। चारों इमारत को खाली करने का नोटिस दिया गया था लेकिन कई लोग अभी भी वहां रहते हैं। हमारी प्राथमिकता है कि इमारत को खाली कराया जाए और बिल्डिंग को तोड़ा जाए।

आदित्य ठाकरे ने आगे कहा कि जब भी बीएमसी नोटिस जारी करे, इमारतें खुद खाली कर दी जानी चाहिए...अन्यथा, ऐसी घटनाएं होती हैं, जो दुर्भाग्यपूर्ण है...अब इस पर कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है। 

Edited By: Piyush Kumar