शिलांग, प्रेट्रनौसेना ने मेघालय की कोयला खदान के भीतर चार दिन पहले दिखाई दिए एक मजदूर के क्षतविक्षत शव को बाहर निकालने के सभी प्रयास रविवार को बंद कर दिए। इसकी जानकारी यहां मौजूद अधिकारियों ने दी।

नौसेना के गोताखोरों को बुधवार को पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले में स्थित इस खदान के मुख्य शाफ्ट से कम से कम 160 फुट नीचे एक मजदूर का क्षतविक्षत शव दिखाई दिया था। इसके लिए उन्होंने मानवरहित और रिमोट चालित व्हीकल (आरओवी) का इस्तेमाल किया था।

अभियान के प्रवक्ता आर सूसनगी ने बताया, 'नौसेना ने शव को बाहर निकालने का काम रविवार को बंद कर दिया, क्योंकि आरओवी से जितनी बार शव निकालने की कोशिश की गई वह उतनी बार और क्षत-विक्षत हुआ। शव निकालने का काम शनिवार शाम से चल रहा था।'

खदान में लंबे समय से फंसे 15 मजदूरों में से चार के परिवार ने शनिवार को बचावकर्ताओं से क्षत-विक्षत शव को बाहर निकालने की अपील की थी ताकि उनका अंतिम संस्कार किया जा सके।

इस अभियान में कई एजेंसियां सहयोग कर रही हैं। इसमें खदान में फंसे खनिकों को बाहर निकालने के लिए मुख्य शाफ्ट से पानी निकालने का काम किया जा रहा है लेकिन जलस्तर कम नहीं होने से पूरी कवायद का कोई फायदा नहीं निकला।

उन्होंने बताया कि नौसेना के गोताखोर सरकार से आगे के निर्देश मिलने का इंतजार कर रहे हैं। एक अधिकारी ने बताया कि मेघालय सरकार खोज एवं बचाव कार्य में पेश आ रही मुश्किलों के बारे में सुप्रीम कोर्ट को अवगत करा सकती है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप