नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। इंटरनेट युग में हमारी पूरी जिंदगी स्मार्ट मोबाइल फोन पर निर्भर हो चुकी है। जिंदगी के गहरे रहस्यों से लेकर, हमारे सभी पासवर्ड, बैंक खातों की डिटेल, ई-वॉलेट आदि सब कुछ मोबाइल में है। मतलब मोबाइल आज के समय का ऐसा राजदार बन चुका जिसकी थोड़ी देर की जुदाई हमें परेशान कर देती है। उसके खोने या चोरी होने के साथ ही उसमें मौजूद गोपनीय जानकारियों के मिस यूज होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

मोबाइल संबंधी खतरों से बचने के लिए हम इसकी सुरक्षा को लेकर अक्सर बेहद सतर्क रहते हैं। बावजूद केवल दिल्ली-एनसीआर में प्रतिदिन हजारों की संख्या में मोबाइल फोन चोरी होते हैं या खो जाते हैं। मोबाइल फोन खोने या चोरी होने पर सबसे ज्यादा खतरा लड़कियों को होता है। लिहाजा मोबाइल खोने या चोरी होने की घटना को हल्के में लेना बड़ी मुसीबत में डाल सकता है।

युवती की आपबीती से जानें मोबाइल खोने का खतरा
शकरपुर दिल्ली निवासी एक लड़की का मोबाइल कुछ दिनों पहले खो गया था। उसने कुछ देर मोबाइल तलाशने का प्रयास किया। लोगों और जानकारों से अपने गुम मोबाइल के बारे में पूछती रही। काफी देर बाद भी जब मोबाइल नहीं मिला तो उसने दिल्ली पुलिस को फोन कर सूचना दी। साथ ही उसने अपना सिम भी ब्लॉक करा दिया। तब तक कई घंटे बीत चुके थे। अगले दिन उसने उस नंबर का दूसरा सिम चालू कराया। दूसरा सिम चालू कराते ही उस पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। उसे तमाम अनजान नंबरों से आपत्तिजनक फोन आने लगे।

युवती ने फिर पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने युवती के नंबर पर आयी अनजान कॉल्स में से कुछ नंबरों पर बात की। इसके बाद पुलिस को चौंकाने वाली जानकारी मिली। पुलिस को पता चला कि युवती को अनजान नंबरों से फोन करने वालों को उसका मोबाइल नंबर एक ऑनलाइन एडल्ट चैट रूम से मिला। पुलिस के अनुसार संभव है कि जिस व्यक्ति को युवती का खोया हुआ मोबाइल मिला था, उसने ही लड़की का नंबर देखकर उसका सिम नंबर एडल्ट चैट रूम में डाल दिया हो। कई बार साइबर क्रिमिनल एडल्ट साइट पर लॉग-इन बनाने के लिए भी इस तरह के मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल करते हैं। इसी से मोबाइल खोने के संभावित खतरों का अंदाजा लगाया जा सकता है।

सबसे पहले सिम ब्लॉक कराएं
साइबर विशेषज्ञ किस्लय चौधरी के अनुसार फोन खोने या चोरी होने पर सबसे पहले उसका सिम नंबर ब्लॉक कराएं। अगर दिल्ली की युवती ने भी ऐसा किया होता तो उसका मोबाइल पाने वाले शख्स को उसके मोबाइल नंबर का मिस यूज करने का समय न मिलता। इतना ही नहीं उस युवती ने मोबाइल के लॉक स्क्रीन पर अपनी फोटो भी लगा रखी थी, जिससे उसका मोबाइल नंबर पाने वाले शख्स को आसानी से अंदाजा लग गया कि वह किसी लड़की का मोबाइल फोन है। इसके बाद हो सकता है उसने लड़की को परेशान करने के लिए उसका मोबाइल नंबर इंटरनेट पर डाल दिया हो। तत्काल सिम ब्लॉक कराने से आपके सोशल मीडिया अकाउंट, बैंक अकाउंट और ई-वॉलेट भी सुरक्षित हो जाते हैं।

Google की मदद से खुद तलाशें अपना मोबाइल फोन
आपको जो एंड्रायड मोबाइल फोन खोया या चोरी हुआ है, उसमें जो जीमेल चल रहा है उसे किसी सिस्टम पर लॉगइन करें। जीमेल लॉगइन करने के बाद दाहिनी तरफ ऊपर की ओर दिख रहे गोल घेरे में अपनी प्रोफाइल फोटो पर क्लिक करें। आपको नीले रंग में गूगल अकाउंट लिखा लिखा हुआ एक लिंक मिलेगा। इस लिंक पर क्लिक करने के बाद बाई तरफ दिए गए विकल्पों में से सिक्योरिटी पर लिंक करें। इसके बाद जो पेज खुलेगा उस पर स्क्रॉल कर नीचे की तरफ जाएं।

नीचे जाने पर आपको बाईं तरफ योर डिवाइसेस (Your Devices) का विकल्प दिखेगा। इसके नीचे विकल्प दिया होगा अपना खोया हुआ या चोरी हुआ फोन तलाशें (Find a Lost or Stolen Phone)। इस लिंक पर क्लिक करने के बाद, आपका जो डिवाइस (मोबाइल फोन) खोया है, उस पर क्लिक करें। इसके बाद आपसे दोबारा लॉग इन करने करने को कहा जाएगा। लॉग इन करते ही Find Your Phone पेज पर आपके खोये हुए डिवाइस के बगल में नीले रंग का रिंग (Ring) और लोकेट (Locate) लिखा विकल्प मिलेगा।

लोकेट पर क्लिक करते ही आपको गूगल मैप पर अपने खोए हुए मोबाइल की लोकेशन दिखने लगेगी। आप उस लोकेशन को ट्रेस करते हुए, वहां तक पहुंच सकते हैं। मौके पर पहुंच आप रिंग पर क्लिक कर अपने मोबाइल में घंटी भी बजा सकते हैं। मोबाइल साइलेंट रहने पर भी मोबाइल में तेज घंटी बजने लगेगी। हालांकि इसके लिए जरूरी है कि आपको मोबाइल चालू हो और उसमें इंटरनेट चल रहा हो। इस तरीके से जितनी जल्दी फोन की तलाश शुरू की जाए, उसके मिलने की संभावना उतनी ज्यादा रहती है।

खोए मोबाइल से डिलीट करें डाटा
Find Your Page पर ही आपको सबसे नीचे कंसीडर इरेजिंग योर डिवाइस (Consider Erasing Your Device) के विकल्प पर क्लिक करें। इसके बाद Yes, Erase विकल्प पर क्लिक कर आप अपने खोए हुए डिवाइस से अपना सभी गोपनीय डाटा व फोटो आदि डिलीट कर उसे सुरक्षित कर सकते हैं। अगर आपने अपने डाटा का बैकअप पहले से तैयार किया है तो आपको गूगल अकाउंट के जरिए डिलीट हुआ ज्यादातर डाटा बरामद हो जाएगा। बैकअप पहले से तैयार न होने की दशा में आपके मोबाइल में मौजूद डाटा हमेशा के लिए खो सकता है। इसी पेज पर साइन आउट ऑन योर फोन विकल्प पर क्लिक कर, आप अपने जीमेल अकाउंट को भी खोए हुए मोबाइल से डिलीट कर सकते हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Amit Singh