नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। महात्मा गांधी को अहिंसा के जरिए विरोध करने वाले नेता के रूप में जाना जाता है। कम ही लोगों को मालूम होगा कि उन्हीं की तरह एक और नेता भी थे जो अहिंसा के रास्ते पर चलकर विरोध करना जानते थे। उन्हें फ्रंटियर गांधी के उपनाम से भी पुकारा जाता था। वो एक पश्तून नेता थे और भारत की आजादी के लिए उन्होंने भी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। हम आपको बताते हैं कि कौन थे वो पश्तून नेता जिनको फ्रंटियर गांधी का उपनाम मिला था।

पारिवारिक पृष्ठभूमि 

फ्रंटियर गांधी के नाम से मशहूर ऐसे शख्स का पूरा नाम खान अब्दुल गफ्फार खान था। उनका जन्म 6 फरवरी 1890 को हुआ था। 20 जनवरी 1988 को उनकी मृत्यु हुई थी। उन्होंने एक धार्मिक और राजनीतिक नेता के रूप में पहचान बनाई। महात्मा गांधी की तरह ही वह भी अहिंसा के जरिए विरोध के रास्ते को सर्वोच्च मानते थे। खान अब्दुल गफ्फार खां को बाचा खान नाम से भी जाना जाता है। महात्मा गांधी के एक दोस्त ने उन्हें फ्रंटियर गांधी का नाम भी दिया था।

खुदाई खिदमतगार आंदोलन 

खान अब्दुल गफ्फार खां ने साल 1929 में खुदाई खिदमतगार (सर्वेंट ऑफ गॉड) आंदोलन शुरू किया। आम लोगों की भाषा में वे सुर्ख पोश थे। खुदाई खिदमतागर, गांधी जी के अहिंसात्मक आंदोलन से प्रेरित था। इस आंदोलन की सफलता से अंग्रेज शासक तिलमिला उठे और उन्होंने बाचा खान और उनके समर्थकों पर जमकर जुल्म ढाए। इस फ्रंटियर गांधी ने अंग्रेजों से लोहा लेने के लिए अहिंसा को हथियार बनाया और अंग्रेजों की नाक में दम किए रखा। उन्होंने अंग्रेजों को नाकों चने चबवाए।

किस्सा ख्वानी नरसंहार 

महात्मा गांधी के नमक सत्याग्रह में शामिल होने वाले बाचा खान को 23 अप्रैल 1923 को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया। खुदाई खिदमतगार के समर्थन में बड़ी संख्या में लोग पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में इकट्ठा हो गए। अंग्रेजों ने इन निहत्थे लोगों पर मशीन गन से गोली चलाने का आदेश दे दिया। इस नरसंहार में 200-250 लोगों की शहादत हुई। चंद्र सिंह गढ़वाली के नेतृत्व में उस समय गढ़वाल राइफल्स रेजिमेंट की तो पल्टून भी वहां मौजूद थीं, लेकिन उन्होंने अहिंसक प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोली चलाने से इनकार कर दिया। बाद में चंद्र सिंह गढ़वाली और उनके सैनिकों को कोर्ट मार्शल की कार्रवाई झेलनी पड़ी और उनमें से कईयों को उम्र कैद की सजा हुई।

बंटवारे के विरोधी रहे... 

खान अब्दुल गफ्फार खान देश के बंटवारे के बिल्कुल खिलाफ थे। उन्होंने ऑल इंडिया मुस्लिम लीग के अलग पाकिस्तान की मांग का विरोध किया था और जब कांग्रेस ने मुस्लिम लीग की मांग को स्वीकार कर लिया तो इस फ्रंटियर गांधी ने दुख में कहा था - 'आपने तो हमें भेड़ियों के सामने फेंक दिया है।' जून 1947 में खान साहब और उनका खुदाई खिदमतगार एक बन्नू रेजोल्यूशन लेकर आया, जिसमें मांग की गई कि पाकिस्तान के साथ मिलाए जाने की बजाय पश्तूनों के लिए अलग देश पश्तूनिस्तान बनाया जाए। हालांकि अंग्रेजों ने उनकी इस मांग को खारिज कर दिया।

पाकिस्तान ने बड़े जुल्म ढाए 

देश के बंटवारे के बाद जब भारत और पाकिस्तान अलग-अलग हुए तो खान अब्दुल गफ्फार खान पाकिस्तान चले गए। लेकिन साल 1948 से 1956 के बीच पाकिस्तान सरकार ने उन्हें कई बार गिरफ्तार किया। साल 1956 में पाकिस्तान सरकार पश्चिमी पाकिस्तान के सभी प्रोविंस को जोड़कर एक बड़ा राज्य बनाने का काम कर रही थी और खान साहब सरकार के इस कदम के खिलाफ खड़े हो गए। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया। 1960-70 के दशकों में उन्होंने ज्यादातर वक्त जेल या फिर निर्वासन में गुजारा। 20 जनवरी 1988 में जब उनका निधन हुआ उस समय भी वह पेशावर में हाउस अरेस्ट थे। उनकी इच्छा के अनुसार मृत्यु के बाद उन्हें अफगानिस्तान के जलालाबाद में दफनाया गया।

सुपुर्द-ए-खाक का वो दिन 

खान अब्दुल गफ्फार खान की मृत देह को पेशावर में खैबर पास के जरिए जलालाबाद ले जाया गया। उन्हें अंतिम विदाई देने के लिए हजारों लोग इकट्ठा थे, लेकिन दो बम विस्फोटों ने गमगीन माहौल को और भी गमगीन बना दिया। इन बम धमाकों में 15 लोगों की जान चली गई थी। यह भी गौर करने वाली बात है कि अफगानिस्तान में उस वक्त सोवियत संघ की कम्यूनिस्ट आर्मी और मुजाहिद्दीनों के बीच जंग चल रही थी। लेकिन फ्रंटियर गांधी को सुपुर्द-ए-खाक किए जाने के दौरान दोनों तरफ से सीज फायर की घोषणा की गई थी। 

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस