कोलार (कर्नाटक), एजेंसी। कर्नाटक में एक दलित परिवार पर जुल्म का मामला सामने आया है। राज्य के कोलार जिले में हिंदू भगवान की मूर्ति को छूने के बाद एक दलित परिवार पर 60,000 रुपये का जुर्माना लगाने के मामले में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जुलूस के दौरान निकाली जाने वाली मूर्ति को छूने पर आरोपी ने दलित लड़के की पिटाई भी कर दी थी।

नए सिरे से जुलूस निकालने के लिए मांगे 60 हजार

दलित लड़के ने जब देवता की दिव्य छड़ी को उठाने का प्रयास किया तो उसकी पिटाई कर दी गई। घटना आठ सितंबर को उल्लेरहल्ली गांव की है। इस घटना के बाद गांव के लोगों ने उनकी मां को फोन किया और कहा कि उन्हें नए सिरे से जुलूस निकालने की अब जरूरत है क्योंकि उनके बेटे ने देवता को छुआ था। लोगों ने कहा कि नया जुलूस निकालने के लिए उन्हें 60,000 रुपये खर्च की जरूरत है। उन्होंने यह भी धमकी दी कि अगर जुर्माना नहीं दिया गया तो उनका बहिष्कार किया जाएगा।

मंदिर का ताला तोड़ करवाए गए दर्शन

अधिकारियों ने शुरू में इस घटना पर आंखें मूंदे रखी, लेकिन बाद में हरकत में आते हुए उन्होंने मंदिर का ताला तोड़ दिया और दलित परिवारों को देवता के दर्शन करने की अनुमति दी। मलूर कांग्रेस विधायक के.वाई. नंजे गौड़ा ने दलित लड़के के परिवार से मुलाकात की और सुरक्षा का आश्वासन दिया। स्थानीय निवासियों ने कहा कि एक मंदिर का निर्माण कार्य किया गया था और इस पृष्ठभूमि में ग्रामीणों ने गांव में त्योहार मनाने का फैसला किया था।

परिवार को दी थी धमकी

गांव के नेताओं ने दलित परिवार को धमकी देकर कहा था कि उनका लड़का तब तक गांव में प्रवेश न करें जब तक कि वे जुर्माना राशि का भुगतान नहीं कर देते। बदमाशों ने लड़के की मां को भी धमकी भरे फोन किए थे। आगे की पूछताछ जारी है।

Edited By: Mahen Khanna