बेंगलुरू, प्रेट्र: अपनी महत्वाकांक्षी योजना को सिरे चढ़ाते हुए इसरो (इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गनाइजेशन) अंतरिक्ष में 31 उपग्रह एक साथ भेजने जा रहा है। फिलहाल लांच की तिथि दस जनवरी तय की गई है, लेकिन इसमें बदलाव भी हो सकता है।

गौरतलब है कि अगस्त में निगरानी उपग्रह आइआरएनएसएस-1एच को भेजने की प्रक्रिया बुरी तरह से धाराशायी हो गई थी। इसरो पहली बार पोलर सेटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) मिशन पर काम कर रहा है। हाल में मिली नाकामी को देखते हुए एजेंसी के लिए यह मिशन अग्नि परीक्षा माना जा रहा है। जो 31 उपग्रह भेजे जा रहे हैं, उनमें कार्टोसेट-2 भी शामिल है। यह पृथ्वी की निगरानी करने वाला अंतरिक्ष यान है।

योजना को अंतिम रूप देने के लिए मिशन रेडीनेस रिव्यू कमेटी व लांच आथोराइजेशन बोर्ड जल्द बैठक कर सकते हैं। आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा से अंतरिक्ष यान पीएसएलवी-सी40 को रवाना किया जाएगा। मिशन में दूसरे देशों के 28 छोटे उपग्रह शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः ग्रामीण क्षेत्र के बीएसएनएल उपभोक्‍ताओं की परेशानी जल्‍द हो सकती है दूर

यह भी पढ़ेंः तीन तलाक: कांग्रेस की 32 साल पुरानी भूल को भाजपा ने किया ओवर-रूल

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस