नई दिल्ली (पीटीआई)। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) ने सोमवार को दावा किया कि एक भारतीय आत्मघाती हमलावर ने सीरिया के उत्तरी पश्चिमी राका में बड़ी संख्या में लड़ाकों को मार डाला।

आइएस की एजेंसी अमाक ने अरबी में जारी बयान में यह दावा किया। आइएस के आत्मघाती हमलावर की पहचान अबु यूसुफ अल-हिंदी के तौर पर की गई है। बयान के मुताबिक अल-हिंदी के हमले में बड़ी संख्या में कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी (पीकेके) के समर्थक मारे गए और और घायल हुए।

हालांकि भारतीय एजेंसियों ने आइएस के दावे की पुष्टि नहीं की है। बताया जाता है कि अबु यूसूफ अल-हिंदी भारतीय उपमहाद्वीप का भगोड़ा था जो आइएस में शामिल हो गया था। उसे मुहम्मद शफी अरमार के नाम से जाना जाता था। उसके और भी कई नाम जैसे छोटे मौला और अंजान भाई थे। 30 वर्षीय अल-हिंदी को जून में अमेरिका ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी की सूची में डाला था।

वह आइएस का पहला भारतीय आतंकी था जिसे अमेरिका ने प्रतिबंधित किया था। उसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस लंबित है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के मुताबिक, वह कर्नाटक के भटकल का रहने वाला था। वह आइएस के लिए आतंकियों की भर्ती करने का प्रमुख था।

यह भी पढ़ें: ISIS ने बदली रणनीति, अब इस तरकीब से दे रहा अातंकी हमले को अंजाम

यह भी पढ़ें: गाजा में आइएस का आत्‍मघाती हमला, 2 की मौत 5 घायल

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस