नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने नवरात्र में वृत रहने वाले लोगों के लिए खास इंतजाम किया है। सोमवार से नवरात्र शुरु हो गए हैं। नवरात्र के पावन अवसर पर खान-पान पर विशेष ध्यान दिया जाता है। नवरात्र में व्रत रहने वाले लोग खास व्यंजन का सेवन करते हैं। इसमें नॉनवेज का सेवन बिल्कुल नहीं किया जाता है। खाने में भी फलाहार का विशेष महत्तव होता है। नवरात्र के दौरान बड़ी संख्या में लोग ट्रेन से यात्रा करते हैं। इसलिए रेल मंत्रालय ने ट्रेन से यात्रा करने वाले भक्तों के लिए एक विशेष मेनू की घोषणा की है।

व्रत के दौरान खाए जाने वाले इस खाने की रेल मंत्रालय ने फोटो ट्वीटकर इसकी जानकारी दी है। साथ ही मेनू भी बताया है। रेल मंत्रालय ने कहा कि यह विशेष ऑर्डर 26 सितंबर से 5 अक्टूबर तक परोसा जाएगा। इसे 'फूड ऑन ट्रैक' ऐप से ऑर्डर किया जा सकता है।

'फूड ऑन ट्रैक' ऐप से ऑर्डर करें

रेलवे ने ट्वीट किया, 'नवरात्रि के शुभ त्योहार के दौरान भारतीय रेलवे आपके लिए 26 सितंबर से 5 अक्टूबर तक परोसे जाने वाली खास थाली लेकर आया है। व्रत के दौरान खाने के लिए यह एक विशेष मेनू है। अपनी ट्रेन यात्रा के दौरान नवरात्रि के व्यंजनों को 'फूड ऑन ट्रैक' ऐप से ऑर्डर करें। इसे ecatering.irctc.co. पर जाकर आर्डर करें।  इसके अलावा 1323 पर कॉल करके भी खाना मंगा सकते हैं।'

400 स्टेशन पर मंगा सकेंगे ये व्रत स्पेशल थाली

भारतीय रेलवे की ओर से पूरे देश में लगभग 400 स्टेशनों पर यात्री इस सुविधा का लाभ ले सकेंगे। इसके लिए आप अपने टिकट के साथ भी बुकिंग करवा सकेंगे। यात्री स्पेशल व्रत वाली थाली मंगवाने के लिए 1323 पर कॉल करके भी ऑर्डर कर सकेंगे।

आज से शुरू हुआ 9 दिवसीय उत्सव

बता दें कि मां दुर्गा और उनके नौ अवतारों को समर्पित शारदीय नवरात्रि उत्सव का 9 दिवसीय उत्सव आज से शुरू हो गया है। इस उत्सव के पहले दिन घरों और मंदिरों में कलश की स्थापना की जाती है। यह त्यौहार पूरे देश में हिंदुओं द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है।

नवरात्र में आयोजित होते हैं विशेष कार्यक्रम

गौरतलब है कि भारत में नवरात्र को कई तरह से मनाया जाता है। नवरात्र के दिनों में रामलीला का आयोजन होता है। इसमें रामायण के दृश्यों का प्रदर्शन किया जाता है। उत्तर भारत में मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और मध्य प्रदेश में रात में रामलीला आयोजित की जाती है। नवरात्र के समाप्ति के बाद यानी दसमी के दिन रावण के पुतले को जलाया जाता है। इस दिन को दशहरा के नाम से जाना जाता है।

यह भी पढ़ें : Sadhguru Vasudev के काजीरंगा पार्क में नाइट जीप सफारी मामले पर FIR, सीएम ने कहा- कोई कानून नहीं तोड़ा

यह भी पढ़ें : Rajasthan Politics: अब कांग्रेस के दिल्ली दरबार में राजस्थान की 'लड़ाई'! जानें- क्या हैं संभावनाएं

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट