नई दिल्लीः एएनआई। इंडियन नेवल शिप्स कोच्चि और चेन्नई द्वारा वेस्टर्न सीबोर्ड पर फायरिंग की प्रैक्टिस की गई है। इसमें दोनों जहाजों की मिसाइलों को लंबी दूरी तक मार करने के लिए परीक्षण लिया गया। ये दोनों जहाज कितनी दूरी तक मार कर सकते हैं, इसको देखने के लिए अलग से एक शिप से इन पर नियंत्रण भी रखा गया। इंडियन नेवी, DRDO और इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज की ओर से ये ट्रायल किया गया था।

भारतीय नौसेना ने मीडियम रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (MRSAM) की पहली कोऑपरेटिव इंगेजमेंट फायरिंग के साथ अपने एंटी एयर वारफेयर क्षमता को बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की। अब नौसेना के पास सतह से सीधे हवा में उड़ रहे दुश्मन के विमान को नष्ट करने की क्षमता भी हासिल हो गई है।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vinay

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप