नई दिल्ली, एजेंसी। भारत और मिस्त्र (Egypt) के बीच बुधवार को द्विपक्षीय संबंधों को लेकर चर्चा हुई। इस दौरान दोनों देशों ने संबंधों से आगे बढ़ते हुए रणनीतिक साझेदारी करने का फैसला किया। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में बताया गया कि, दोनों देशों ने साइबर सुरक्षा, संस्कृति, सूचना प्रौद्योगिकी और प्रसारण के क्षेत्र में समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान किया।

भारत और मिस्र के बीच हैं अनूठे संबंध

इसी बीच विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने बताया कि हमारे गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में मिस्त्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी की यात्रा सभ्यता के संबंधों और स्वतंत्रता के लिए साझा संघर्ष के विशेष और अनूठे बंधन को दर्शाती है जिसे भारत और मिस्त्र ने वर्षों से बनाया है।

विदेश मंत्रालय के बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मिस्त्र राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी राजनयिक संबंधों के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दोनों देशों के बीच डाक टिकटों के आदान-प्रदान के साक्षी बने। इस दौरान साइबर सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम और मिस्त्र की कंप्यूटर इमरजेंसी रेडीनेस टीम के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

धीरेंद्र शास्त्री को नागपुर पुलिस ने दी क्लीनचीट, जवाब में शिकायतकर्ता से कहा- अंधविश्वास जैसा कोई प्रमाण नहीं

रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव और मिस्त्र के संचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ अम्र अहमद सामीह तलत ने दोनों देशों के बीच सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक सहयोग ज्ञापन का आदान-प्रदान किया। इसी बीच केंद्रीय संस्कृति, पर्यटन और उत्तर पूर्वी क्षेत्र के विकास मंत्री जी किशन रेड्डी और मिस्त्र के विदेश मंत्री सामेह हसन शौकरी ने संस्कृति के क्षेत्र में समझौता ज्ञापन का आदान-प्रदान किया।

PM मोदी से मिले मिस्र के राष्ट्रपति

इससे पहले मिस्त्र के राष्ट्रपति ने नई दिल्ली स्थित हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की। जहां पर दोनों नेताओं के बीच में द्विपक्षीय संबंधों को लेकर चर्चा हुई। बता दें कि राष्ट्रपति सिसी भारत के 74वें गणतंत्र दिवस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होंगे। यह पहली दफा है जब भारत ने मिस्त्र के राष्ट्रपति को गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया है।

राष्ट्रपति सिसी ने बताया कि मैं गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा लेने जा रहा हूं। मैं इस तरह के भव्य स्वागत के लिए प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रगुजार हूं। प्रधानमंत्री मोदी के साथ संयुक्त बयान में राष्ट्रपति सिसी ने कहा कि हमारी वार्ता के दौरान हम विभिन्न क्षेत्रों में मौजूदा सहयोग को बढ़ावा देने और नए क्षेत्रों में साझेदारी को बढ़ावा देने पर सहमत हुए हैं। हम अपने क्षेत्रों, मुख्य रूप से निवेश, उच्च शिक्षा, रसायन, दवा उद्योग आदि में सहयोग को मजबूत कराने पर हम सहमत हुए हैं।

BBC Documentary Row: जामिया में विवादित डॉक्यूमेंट्री को लेकर एक्शन में पुलिस, हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारी

राष्ट्रपति सिसी ने PM मोदी को किया आमंत्रित

उन्होंने कहा कि मैं साल 2015 में न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री मोदी से मिला था और मुझे उन पर पूरा भरोसा था। मुझे पता था कि वह अपने देश को आगे ले जाएंगे। मैंने हमारे संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को मिस्त्र के काहिरा में आमंत्रित किया है। उन्होंने बताया कि हमने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के बारे में बात की और सीओपी-27 पर चर्चा की। हमने मिस्त्र और भारत के बीच सुरक्षा सहयोग पर भी चर्चा की। मैंने आगामी जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए मिस्त्र को अतिथि देश के रूप में आमंत्रित करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद किया।

Microsoft down: माइक्रोसॉफ्ट की टीम, आउटलुक और स्टोर सर्विस में बाधा, यूजर्स को हो रही परेशानी

Edited By: Anurag Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट