नई दिल्ली, प्रेट्र। भारत और अमेरिका द्विपक्षीय सैन्य सहयोग को और बढ़ाने के लिए शुक्रवार से अलास्का में 15 दिन का मेगा सैन्य अभ्यास शुरू करेंगे। भारतीय सेना ने गुरुवार को कहा कि 'युद्ध अभ्यास' नाम के इस सैन्य अभ्यास के 17वें संस्करण का आयोजन अलास्का में ज्वाइंट बेस एलमंडोर्फ रिचर्डसन में 15 से 29 अक्टूबर तक किया जाएगा। भाग लेने वाले भारतीय जत्थे में भारतीय सेना की इन्फेंट्री बटालियन के 350 जवान शामिल होंगे। इस अभ्यास का पिछला संस्करण फरवरी में बीकानेर की महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में आयोजित किया गया था।

सेना ने कहा, 'यह अभ्यास दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को बढ़ाने की दिशा में एक और कदम है। अभ्यास का उद्देश्य दोनों सेनाओं के बीच समझ, सहयोग और पारस्परिकता को बढ़ाना है।'

उसने कहा कि सैन्याभ्यास में ठंडी जलवायु स्थिति में सामूहिक सैन्य व्यूह-रचनाओं पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा और इसका प्रमुख उद्देश्य एक दूसरे से सर्वश्रेष्ठ तरीकों को सीखना तथा रणनीतिक स्तर के तरीकों को साझा करना है। पिछले कुछ साल में भारत-अमेरिका के रक्षा संबंध बढ़े हैं। जून 2016 में अमेरिका ने भारत को 'बड़ा रक्षा साझेदार' बताया था।

बता दें कि इस अभ्यास का पिछला संस्करण फरवरी 2021 में राजस्थान के बीकानेर में महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में आयोजित किया गया था। यह अभ्यास दोनों देशों के बीच बढ़ते सैन्य सहयोग में एक और कदम है।

अमेरिकी विमानवाहक युद्धपोत कार्ल विंसन संयुक्त अभ्यास में ले रहा भाग

वहीं, दूसरी ओर भारतीय नौसेना की मेजबानी में दूसरे चरण के वार्षिक मालाबार युद्धाभ्यास में इस बार परमाणु हथियारों से लैस अमेरिकी विमानवाहक युद्धपोत कार्ल विंसन भाग ले रहा है। यह पहली बार है जब अमेरिका का विमानवाहक पोत इस नौसेना अभ्यास में ले रहा है। तीन दिवसीय होने वाला यह संयुक्त अभ्यास 12 से 15 अक्टूबर के बीच क्वाड के सदस्य देश-भारत, अमेरिका, आस्ट्रेलिया और जापान के बीच हो रहा है।