नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में देश के तमाम संस्‍थान अलग अलग तकनीक पर काम कर रहे हैं। इस बीच आइआइटी गुवाहाटी से भी एक अच्‍छी खबर सामने आई है। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आइआइटी) गुवाहाटी ने सिंगापुर के ड्यूक एनयूएस मेडिकल स्कूल के साथ मिलकर विभिन्न राज्यों में अगले 30 दिन में कोरोना संक्रमण के मामलों का अनुमान लगाने का नया मॉडल विकसित किया है। इस नए मॉडल को अभी देश में संक्रमण का अनुमान लगाने के लिए प्रयोग किए जाने वाले सभी तीन मॉडल की मदद से बनाया गया है।

इस मॉडल के तहत राज्यों को तीन श्रेणियों में बांटा जाता है। यह वर्गीकरण मौजूदा रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन से अलग है। शोधकर्ताओं की टीम ने बताया कि अभी लॉजिस्टिक मैथड के हिसाब से 30 दिन में 1.5 लाख मामले और एक्सपोनेंशयिल मेथड के हिसाब से 5.5 लाख मामले होंगे। आइआइटी गुवाहाटी के असिस्टेंट प्रोफेसर पलाश घोष ने कहा, 'किसी भी एक मॉडल के हिसाब से लगाया गया अनुमान सही नहीं होगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने सभी तीन मॉडल को एक साथ इस्तेमाल किया है। इसके साथ ही इसमें मॉडल फ्री डेली इन्फेक्शन रेट का भी प्रयोग किया गया है।'

उल्‍लेखनीय है कि देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या रविवार को 2,109 हो गई और संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 62,939 पर पहुंच गए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बीते 24 घंटे में 128 लोगों की मौत हुई और 3,277 मामले सामने आए हैं। देश में 41,472 लोग अब भी संक्रमण की चपेट में हैं जिनका इलाज चल रहा है। सबसे अधिक 779 लोगों की मौत महाराष्ट्र में हुई है। गुजरात में 472, मध्य प्रदेश में 215, पश्चिम बंगाल में 171, राजस्थान में 106, उत्तर प्रदेश में 74, दिल्ली में 73 और आंध्र प्रदेश तथा तमिलनाडु में 44-44 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि, 19,357 लोग स्वस्थ हो गए हैं और एक मरीज विदेश चला गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021