कायथा (उज्जैन), जेएनएन। गैंगस्टर विकास दुबे कानपुर में मुठभेड़ में मारा गया। उसे मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर के पास से उस वक्त गिरफ्तार किया गया था, जब वह मंदिर में दर्शन करने के लिए जा रहा था। गैंगस्टर विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए पहुंचा था। अपने काले कर्मों और पापों को धोने के लिए महाकाल के दर्शन के लिए पहुंचा विकास दुबे गिरफ्तार कर लिया गया। एक जानकारी के मुताबिक विकास दुबे ने यहां शीघ्र दर्शन के लिए 250 रुपये की रसीद भी कटवाई थी।

'...अगर जिंदा रहा तो महाकाल दर्शन करने फिर आऊंगा'

इस बीच अब गैंगस्टर की मौत के बाद उसको लेकर कई तरह के खुलासे हो रहे हैं। एक जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के लिए रवाना होने के पहले विकास दुबे ने गुरुवार रात अपना आखिरी नाश्ता कायथा थाने पर किया था। यहां पुलिस ने कुछ कागजी कार्रवाई भी की थी। दुबे ने खुद नाश्ता मांगा था। जाते वक्त उसने कहा था कि अगर जिंदा रहा तो महाकाल दर्शन करने और इस थाने पर जरूर आऊंगा।

गुरूवार को महाकाल मंदिर से गिरफ्तार करने के बाद उज्जैन के आला अधिकारी उसे लेकर देर शाम कायथा थाना पहुंचे थे। कायथा थाने के बाद शाजापुर जिला लगता है। इसलिए पुलिस ने यहां कागजी कार्रवाई की। इस दौरान विकास दुबे ने पुलिसकर्मियों से नाश्ते की भी गुहार लगाई थी। इसके बाद कायथा पुलिस ने नाश्ता करवाया। बाद में मक्सी रोड से उसे कानपुर के लिए रवाना किया था। थाना के सूत्रों ने बताया कि विकास दुबे ने हमें धन्यवाद कहा था। यह भी बोला था कि अगर जिंदा रहा तो महाकाल दर्शन करने और थाने में जरूर आऊंगा।

महाकाल की शरण में जाने से नहीं धुल जाएंगे पाप- शिवराज

गैंगस्टर विकास की उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तारी के बाद मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज ने कहा था कि जिनको लगता है कि महाकाल की शरण में जाने से उनके पाप धुल जाएंगे तो उन्होंने महाकाल को जान ही नहीं है। 

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस