नई दिल्ली। हिंदी के प्रति लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने और इसे आगे ले जाने के उद्देश्य से हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी की उपयोगिता अब लोगों को समझ आने लगी है। हिंदी ने व्यवसाय, शिक्षा और तकनीक के स्तर पर काफी प्रगति की है। अब अंतरराष्ट्रीय कंपनियां भी तवज्जो देने लगी हैं।

राजभाषा बनी हिंदी

14 सितंबर 1949 को संवैधानिक रूप से हिंदी को राजभाषा का दर्जा दिया गया। संविधान के अनुच्छेद 343 में यह प्रावधान किया गया है कि देवनागरी लिपि के साथ हिंदी भारत की राजभाषा होगी। तबसे हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पढ़ें : कब तक अदालतों में हक की लड़ाई लड़ेगी हिंदी

हिंदी की पहुंच

विश्व के करीब 150 विश्वविद्यालयों तथा छोटे-बड़े केंद्रों में हिंदी की पढ़ाई और शोध होते हैं। विदेश में 25 से अधिक पत्र-पत्रिकाएं लगभग नियमित रूप से हिंदी में प्रकाशित हो रही हैं। यूएई के 'हम एफएम' सहित अनेक देश हिंदी कार्यक्रम प्रसारित कर रहे हैं, जिनमें ब्रिटेन के बीबीसी, जर्मनी के डायचे वेले, जापान के एनएचके वर्ल्ड और चीन के चाइना रेडियो इंटरनेशनल की हिंदी सेवा विशेष रूप से उल्लेखनीय है।

पुरस्कार भी

सरकारी कार्यालयों में लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कार समारोह आयोजित किया जाता है। कार्य के दौरान अच्छी हिंदी का उपयोग करने वाले को यह पुरस्कार दिए जाते हैं। देशभर के 39 लोगों को राजभाषा कीर्ति और 13 को राजभाष गौरव पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं।

पढ़ें : हिंदी दिवस विशेष: राजनीति में जिंदा है 'हिंदी'

तकनीक में बढ़ी हिंदी

आज के दौर में हिंदी को युवाओं तक पहुंचाने में हिंदी समाचार पत्रों की वेबसाइट ने अहम भूमिका निभाई है। एक अध्ययन के मुताबिक हिेंदी सामग्री की खपत करीब 94 फीसद बढ़ी है। हर पांच में एक व्यक्ति हिंदी में इंटरनेट प्रयोग करता है। फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्स एप में आप कुछ एप्लीकेशंस और सॉफ्टवेयर की मदद से हिंदी में लिख सकते हैं। इसके लिए गूगल हिंदी इनपुट लिपिक डॉट इन, इजी टाइप हिंदी कीबोर्ड, यूनिनागरी जैसे अनेक साॅफ्टवेयर और स्मार्टफोन एप्लीकेशन मौजूद हैं। कुछ एप की मदद से आप हिंदी-अंग्रेजी अनुवाद भी कर सकते हैं।

पढ़ें : अपने ही घर में दासी बनकर रह रही हिंदी

हिंदी दिवस पर बधाइयां :

आप सभी को हिंदी दिवस का अभिनंदन। हिंदी भाषा का रंग होली के रंगों से भी अधिक गहरा है। हमें हिंदी भाषा के रंगों को हर राज्य और प्रांत से जोड़ना होगा, जिससे देश की एकता, अखंडता और राष्ट्रीयता का सकारात्मक संदेश जाए। - धर्मेंद प्रधान, केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री

हिंदी दिवस के अवसर पर मैं सभी से सांस्कृतिक व सामाजिक एकता की सूत्रधार हिंदी भाषा के गौरव को बढ़ाने का संकल्प लेने का आह्वान करती हूं। - वसुंधरा राजे, मुख्यमंत्री, राजस्थान

हिंदी दिवस की आप सभी देशवासियों को मेरे और मेरे मंत्रालय की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं। - जुएल उरांव, केंद्रीय मंत्री

Posted By: Sanjay Bhardwaj