नई दिल्ली, जेएनएन। लालबत्ती वाली वीआईपी परंपरा को खत्म करने का पीएम मोदी के फैसला का असर दिखने लगा है। नितिन गडकरी के बाद अब गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने प्रधानमंत्री के फैसले का स्वागत करते हुए अपनी कार से लाल बत्ती खुद अपने हाथों से हटा दी है।

लाल बत्ती की वीआईपी परंपरा से उत्तर प्रदेश के प्रवक्ता और ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने भी खुद को अलग कर लिया है। उन्होंने भी लाल बत्ती हटाकर अपनी कार से सफर किया। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने भी अपनी कार से लाल बत्ती हटा दी है।

इससे पहले कैबिनेट के फैसले के ऐलान के तुरंत बाद फैसले के अमल पर मंत्रियों की लाइन सी लग गई और फिर केंद्रीय मंत्री विजय गोयल, महेश शर्मा ने अपनी गाड़ी से लाल बत्ती हटा दी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने भी अपनी गाड़ी से लाल बत्ती हटा दी है।

बताते चलें कि दिल्ली की आप सरकार ने फरवरी 2015 में घोषणा की थी कि उनके मंत्री अपनी आधिकारिक कारों में लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं करेंगे। वहीं कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पिछले महीने पंजाब का सीएम बनने के बाद बिना लाल बत्ती के चलने का फैसला लिया था। नए नियमों के अनुसार सिर्फ एमरजेंसी वाहन ही लाल या किसी दूसरे रंग की बत्ती के साथ सड़क पर चल सकते हैं जिससे कि उन्हें जल्दी से जल्दी रास्ता दिया जा सके।

Edited By: Gunateet Ojha