जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। देश में आने वाले दिनों में 45 और नए जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी) खोले जाएंगे। इनमें एक विद्यालय हरियाणा के चरखी-दादरी में भी खुलेगा। फिलहाल इसकी तैयारी शुरु हो गई है। जल्द ही इसका प्रस्ताव कैबिनेट को भेजा जाएगा। इस प्रस्ताव में सबसे ज्यादा 21 विद्यालय अकेले तेलंगाना में खोले जाएंगे। ग्रामीण क्षेत्र के प्रतिभाशाली बच्चों को बेहतर और नि:शुल्क स्कूली शिक्षा मुहैया कराने के लिए लिहाज से यह स्कूल संचालित किए जा रहे है। मौजूदा समय में देश भर में ऐसे करीब 661 विद्यालय है।

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की अध्यक्षता में गुरुवार को हुई नवोदय विद्यालय समिति के कार्यकारिणी की 37वीं बैठक में इसे लेकर सहमति बनी है। केंद्रीय मंत्री निशंक ने इस दौरान समिति से जल्द ही इसका विस्तृत प्रस्ताव तैयार देने के निर्देश दिए है। खासबात यह है कि इस प्रस्ताव के तहत इन विद्यालयों को उन्हीं जिलों में खोला जाएगा, जहां मौजूदा समय में जवाहर नवोदय विद्यालय नहीं है। नवोदय विद्यालय समिति के मुताबिक प्रत्येक जिले में ऐसे कम से कम एक विद्यालय खोलने का लक्ष्य रखा गया है। हालांकि कुछ जिलों में दो या तीन विद्यालय भी विशेष प्रावधानों के तहत खोले गए है। इनमें वह जिले शामिल है, जिसमें एससी-एसटी की सबसे ज्यादा आबादी निवास करती है।

स्वीकृति के बाद भी जमीन न मिलने पर जताई नाखुशी, दिया वक्त

केंद्रीय मंत्री ने इस दौरान स्वीकृति के बाद भी कई राज्यों में स्कूल के लिए जमीन न मिलने को लेकर नाखुशी जताई। साथ ही समिति को निर्देश दिया, कि वह दो महीने के भीतर ऐसे राज्यों से संपर्क कर जमीन का आवंटन सुनिश्चित कराए। दिक्कत होने पर मंत्रालय की मदद लेने के भी निर्देश दिए है। मौजूदा समय में जमीन न मिल पाने के चलते उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड सहित कई राज्यों में कई स्कूल को खुद का भवन नहीं मिल पाया है। नियम के मुताबिक जवाहर नवोदय विद्यालय के लिए कम से कम 30 एकड़ जमीन चाहिए। जिसे उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की है।

किस राज्य को मिलेंगे कितने विद्यालय

समिति से जुड़े सूत्रों के मुताबिक प्रस्ताव में जिन राज्यों में 45 नए विद्यालय खोलने का प्रस्ताव है, उनमें 21 तेंलगाना, पश्चिम बंगाल-तीन, मणिपुर- सात, असम-छह, हरियाणा में एक और महाराष्ट्र में एक विद्यालय खोले जाएंगे।

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप