Move to Jagran APP

Jan Dhan accounts: सरकार ने 20 करोड़ महिला जनधन खातों में भेजे रुपये, आप भी चेक करें

20.5 करोड़ जनधन खाताधारक महिलाओं को तीन महीने तक 500-500 रुपये दिए जाएंगे। प्रत्येक खाताधारक के खाते में पहली किस्त के पैसे पहुंच गए हैं।

By Sanjeev TiwariEdited By: Published: Thu, 09 Apr 2020 01:52 AM (IST)Updated: Thu, 09 Apr 2020 01:52 AM (IST)
Jan Dhan accounts: सरकार ने 20 करोड़ महिला जनधन खातों में भेजे रुपये, आप भी चेक करें

नई दिल्ली, प्रेट्र। सरकार ने 20 करोड़ महिलाओं के जनधन खातों में 500-500 रुपये की पहली किस्त भेज दी है। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले महीने 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी। इसमें महिलाओं के जनधन खातों में राशि भेजने की योजना भी शामिल थी। उन्होंने कहा था कि 20.5 करोड़ जनधन खाताधारक महिलाओं को तीन महीने तक 500-500 रुपये दिए जाएंगे। इससे लॉकडाउन के दौरान उन्हें घर चलाने में मदद मिलेगी।

सूत्रों ने बुधवार को बताया कि प्रत्येक खाताधारक के खाते में पैसे पहुंच गए हैं। लाभार्थी शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए बैंक से पैसे निकाल सकते हैं। पैसे की निकासी के दौरान भीड़भाड़ से बचने के लिए भारतीय बैंक संघ (आईबीए) ने अप्रैल माह के लिए बैंकों का कार्यक्रम तय कर दिया है। बैंक शाखाओं को भीड़भाड़ से बचाने के लिए महिला खाताधारकों के खातों में सहायता राशि पांच दिन में भेजी गई।

सोशल डिस्टेंसिंग का रखा गया ध्यान

सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए इंडियन बैंक्स असोसिएशन ने कहा कि बैंकों में भीड़ ज्यादा नहीं बढ़े, इसके लिए खाता नंबर के हिसाब से अलग-अलग दिन निर्धारित कर दिया गया था। उल्लेखनीय है कि सरकार ने आर्थिक सहायता के लिए इन महिलाओं के खाते में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत अगले 3 महीने तक हर महीने 500 रुपये ट्रांसफर करने की घोषणा की है। इससे जन-धन खाता रखने वाली करीब 20 करोड़ महिलाओं को लाभ होगा।

पीएम किसान का भी जल्द मिलेगा लाभ

इसके अलावा बैंकों को पीएम-किसान योजना के लाभार्थियों को भी देखना है। इसके तहत पहली किस्त के रूप में 2,000 रुपये दी जा रही है। इस योजना में सालाना तीन किस्तों में 6,000 रुपये दी जाती है। बैंकों को अगले तीन महने महीने में तीन करोड़ गरीब विधवा पेंशन भोगियों और गरीब दिव्यांगों के खाते में 1,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने को कहा गया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.