नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। New Vande Bharat Express: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30 सितंबर को अपने गुजरात दौरे के नई वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। यह देश की तीसरी सेमी हाई स्पीड ट्रेन है। इसे गांधी नगर से मुंबई सेंट्रल के बीच चलाया जाएगा। इस ट्रेन को 'मेक इन इंडिया' के तहत तैयार किया गया है। इसके अधिकांश पार्ट भारत में ही तैयार किए गए हैं।

इससे पहले 15 फरवरी 2019 को पहली बार नई दिल्ली-कानपुर-इलाहाबाद-वाराणसी मार्ग पर वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई थी। पीएम मोदी ने बीते साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में अगले 75 सप्ताह के दौरान 75 वंदे भारत ट्रेनें चलाने की घोषणा की थी।

गांधीनगर-अहमदाबाद-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस रूट, टाइम टेबल

वंदे भारत एक्सप्रेस मुंबई सेंट्रल से सुबह 6:10 बजे प्रस्थान करेगी और दोपहर 12:30 बजे गांधीनगर पहुंचेगी। ट्रेन सूरत में सुबह 8:50 बजे, वडोदरा में 10:20 बजे और अहमदाबाद में 11:35 बजे पहुंचेगी।

वापसी की यात्रा में वंदे भारत एक्सप्रेस गांधीनगर से दोपहर 2:05 बजे प्रस्थान करेगी और रात 8:35 बजे मुंबई सेंट्रल पहुंचेगी। यह अहमदाबाद रेलवे स्टेशन पर दोपहर 2:40 बजे, वडोदरा शाम 4 बजे और सूरत शाम 5:40 बजे पहुंचेगी।

गांधीनगर-अहमदाबाद-मुंबई वंदे भारत एक्सप्रेस सप्ताह में छह दिन सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार और शनिवार को चलेगी। गांधीनगर कैपिटल से मुंबई सेंट्रल वंदे भारत एक्सप्रेस में 16 कोच होंगे।

वंदे भारत एक्सप्रेस में क्या है खास?

नई सेमी हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेन गति, सुरक्षा और सर्विस के मामले में अन्य ट्रेनों से अलग है। चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में केवल 18 महीनों में इसे तैयार किया गया है। वंदे भारत एक्सप्रेस 160 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति तक चल सकती है। यह कुछ ही सेकेंड में 100 किमी की रफ्तार पकड़ सकती है। यात्रियों को उनकी यात्रा अनुभव को बेहतर बनाने की पूरी कोशिश की गई है।

गति और सुविधा के मामले में यह ट्रेन भारतीय रेलवे के लिए बड़ी छलांग है। वंदे भारत एक्सप्रेस यात्रा के समय को 25 से 45 प्रतिशत तक घटा देगा। उदाहरण के लिए नई दिल्ली और वाराणसी के बीच इस ट्रेन से यात्रा करने में सिर्फ आठ घंटे लगते हैं। इन दोनों शहरों को जोड़ने वाली अन्य ट्रेनों को 12-14 घंटे लगते हैं।

ऑटोमेटिक दरवाजे

इस ट्रेन के सभी कोच में ऑटोमैटिक दरवाजे, जीपीएस आधारित ऑडियो-विजुअल यात्री सूचना प्रणाली, मनोरंजन के लिए ऑनबोर्ड हॉटस्पॉट वाई-फाई की सुविधा दी गई है। इसके साथ ही इसकी आरामदायक कुर्सी यात्रा को और आसान बनाती है।

यह भी पढ़ेंः पीएम मोदी ने अहमदाबाद मेट्रो रेल परियोजना का किया उद्घाटन, कहा- यह 'आत्मनिर्भर भारत' के लिए बड़ा दिन

180 डिग्री तक घूमती है सीटें

एग्जीक्यूटिव में 180 डिग्री घूमने वाली सीटें लगी हैं। साथ ही साइड रिक्लाइनर की भी सुविध है। ट्रेन में टच-फ्री सुविधाओं के साथ बायो वैक्यूम शौचालय भी हैं। प्रत्येक कोच में गर्म खाना और पेय पदार्थ परोसने की सुविधाओं के साथ एक पेंट्री है। प्रत्येक वंदे भारत एक्सप्रेस में कुल 1,128 यात्रियों के बैठने की क्षमता है।

सीसीटीवी कैमरे और इमरजेंसी लाइटें भी

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कोच के बाहर रियरव्यू कैमरों सहित चार प्लेटफॉर्म साइड कैमरे लगाए गए हैं। ट्रेन के बेहतर नियंत्रण के लिए नए कोचों में लेवल-II सेफ्टी इंटीग्रेशन सर्टिफिकेशन है। इसके साथ ही ट्रेन में बिजली गुल होने की स्थिति में हर कोच में चार इमरजेंसी लाइटिंग भी होगी।

Edited By: Sanjeev Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट