नई दिल्ली, एएनआइ। दक्षिण भारत के कई राज्यों में इस साल का मानसून पहले ही आ चुका है। वहीं, अब देश के अन्य राज्यों में भी मानसून ने दस्तक देना शुरू कर दिया है। असम में भारी बारिश के चलते पुल टूट गया है  तो केरल में मौसम विभाग को अलर्ट जारी करना पड़ा है। वहीं, दक्षिण-पश्चिम से जुड़े राज्यों में मानसून जल्द ही दस्तक देने वाला है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) के अनुसार हिमाचल प्रदेश, गुजरात के कच्छ और मध्य प्रदेश में इस साल के मानसून की आज पहली बारिश होने के आसार हैं। इसके साथ ही राजस्थान के कुछ हिस्सों में भी बारिश हो सकती है। चंडीगढ़ और पंजाब में भी आज मानसून के आने की संभावना जताई गई है।

मौसम विभाग ने उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों, पूरे उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख  में भी आज ही मानसून की पहली बारिश होने का अनुमान बताया है। इसके साथ ही भारतीय मौसम विभाग ने गुलाम कश्मीर (PoK) के गिलगिट, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद में भी मानसून की पहली बारिश होने की संभावना जताई है।

मानसून के चलते केरल के कई जिलो में तेज बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। केरल में तेज बारिश के चलते भारतीय मौसम विज्ञान ने 26 जून के लिए तिरुवनंतपुरम, कोल्लम, पठानमथिट्टा, कोट्टायम, अलापुझा, एर्नाकुलम और इडुक्की जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही विभाग ने कोझीकोड और वायनाड जिलों में भी 27 जून तक के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।

असम में तेज बारिश के बाद तिनसुकिया जिले के कई इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है। तेज बारिश के चलते डूमडोमा रूपइ बागान पुल टूट गया है।

मलाजखंड में हुई बरसात

बुधवार को मौसम विज्ञानियों ने पूरे प्रदेश में मानसून के पहुंचने की घोषणा कर दी है, लेकिन अच्छी बारिश के लिए अभी चार दिन तक इंतजार करना होगा। हालांकि इस दौरान कहीं-कहीं हल्की बौछारें पड़ती रहेंगी। उधर, बुधवार को सुबह 8:30 से शाम 5:30 बजे के बीच नौगांव में 17, गुना में 4, मलाजखंड में एक मिमी बरसात हुई। 

प्रदेश में मानसून छाया, चार दिन बाद ही अच्छी बारिश के आसार

मौसम विज्ञान केंद्र के प्रवक्ता के मुताबिक, बुधवार को दक्षिण-पश्चिम मानसून ने पूरे प्रदेश में उपस्थिति दर्ज करा दी है। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि मानसून पूरे प्रदेश में आ चुका है, लेकिन चार दिन बाद ही अच्छी बरसात होने के लिए स्थितियां बनेंगी। वर्तमान में ओडिशा पर बना ऊपरी हवा का चक्रवात आगे बढ़कर उत्तर-पूर्वी मप्र पर आ गया है, लेकिन वह कमजोर पड़ चुका है। दक्षिण गुजरात और राजस्थान पर बने चक्रवात से भी मानसून को अपेक्षाकृत ऊर्जा नहीं मिल रही है। इस वजह से अभी अच्छी बरसात होने की संभावना कम है। 

29 जून से पूरे प्रदेश में झमाझम बारिश की संभावना

उधर, पश्चिम बंगाल में एक ऊपरी हवा का चक्रवात बनने के संकेत मिले हैं। इसके आगे बढ़ने पर 29 जून से पूरे प्रदेश में झमाझम बारिश होने की संभावना है। शुक्ला के मुताबिक वातावरण में काफी नमी मौजूद है इसलिए धूप निकलने से तापमान बढ़ते ही दोपहर बाद कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने का सिलसिला जारी रहेगा।

दिल्ली में झमाझम बारिश

वहीं, आज दिल्ली-एनसीआर में झमाझम बारिश हुई।  मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में आज और कल यानी गुरुवार को दिल्‍ली में भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है। इस दौरान अधिकतम पारा 35-37 के बीच रहेगा। मॉनसून के अगले 36 घंटों के भीतर दिल्‍ली आने के आसार हैं। उसके बाद, बारिश का ऐसा दौर शुरू होने की उम्‍मीद है कि गर्मी से लंबे समय तक लोगों को राहत मिलेगी।

बिहार में बाढ़ आने का अनुमान

उत्तर भारत के बिहार राज्य में इस बार भी भारी बारिश के चलते बाढ़ आने का अनुमान जताया गया है। बिहार आपदा प्रबंधन विभाग ने 24 जून से 29 जून तक भारी बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए कुछ कदम उठाए हैं। विभाग ने संभावित बाढ़ के खतरे को देखते हुए संबंधित जिलों के ​जिलाधिकारियों को पत्र लिखकर जरूरी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

गौरतलब है कि देश के दक्षिण हिस्से के राज्यों में मानसून ने पहले ही दस्तक दी है। केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु आदि राज्यों में मानसून के आने के बाद झमाझम बारिश हो रही है। यहां के लोगों को गर्मी से काफी राहत मिली हुई है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस