Move to Jagran APP

बीच सड़क पर इफ्तार पार्टी, 4 घंटे तक सड़क रहा जाम; वीडियो वायरल होने के बाद चुनाव आयोग ने जारी किया नोटिस

भारत निर्वाचन आयोग नेमिड-स्ट्रीट इफ्तार पार्टी के आयोजकों को नोटिस जारी किया है। इफ्तार पार्टी का आयोजन उल्लाल तालुक में राज्य राजमार्ग पर मुदिपु जंक्शन पर किया गया था। दक्षिण कन्नड़ जिले के नए आईटी केंद्र की ओर जाने वाला एक व्यस्त चौराहा है। कार्यक्रम का वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल होने के बाद ईसीआई ने ऑटो राजाकनमार इफ्तार कार्यक्रम के मुख्य आयोजक अबुबकर सिद्दीकी को नोटिस भेजा है।

By Agency Edited By: Nidhi Avinash Published: Mon, 01 Apr 2024 02:52 PM (IST)Updated: Mon, 01 Apr 2024 02:52 PM (IST)
मंगलुरु में सड़क पर इफ्तार पार्टी (Image: Jagran)

पीटीआई, मंगलुरु। भारत निर्वाचन आयोग ने'मिड-स्ट्रीट इफ्तार पार्टी' के आयोजकों को नोटिस जारी किया है। दरअसल, 30 मार्च को इफ्तार पार्टी के दौरान राजमार्ग का 200 मीटर से अधिक का हिस्सा दोपहर 2 बजे तक 4 घंटे से अधिक समय तक अवरुद्ध रहा।

इफ्तार पार्टी का आयोजन उल्लाल तालुक में राज्य राजमार्ग पर मुदिपु जंक्शन पर किया गया था। यह दक्षिण कन्नड़ जिले के नए आईटी केंद्र की ओर जाने वाला एक व्यस्त चौराहा है। कार्यक्रम का वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल होने के बाद ईसीआई ने इस पर संज्ञान लिया।

आचार संहिता का उल्लंघन

ईसीआई ने चुनाव आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए रविवार को एक नोटिस जारी किया है। यह नोटिस 'ऑटो राजाकनमार इफ्तार' कार्यक्रम के मुख्य आयोजक अबुबकर सिद्दीकी को भेजा गया है।

इस इफ्तार पार्टी के कारण सड़क के एक तरफ यातायात को प्रतिबंधित कर दिया था, जिससे व्यस्त समय के दौरान मोटर चालकों और पैदल यात्रियों के लिए 4 घंटे से अधिक समय तक चलना मुश्किल हो गया। उल्लाल तालुक के सभी रिक्शा चालकों ने इस इफ्तार सभा का आयोजन किया था जिसमें व्यापारियों और स्थानीय लोगों ने भाग लिया था।

विभिन्न समुदायों के लोगों ने लिया था भाग

इस आयोजन को सांप्रदायिक सद्भाव की दिशा में एक साहसिक कदम बताया गया क्योंकि उन्होंने दावा किया कि इस कार्यक्रम में विभिन्न समुदायों के लोगों ने भाग लिया। ईसीआई नोटिस में सिद्दीकी से यह बताने को कहा गया है कि ईसीआई मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें:  'How Prime Ministers Decide' आखिर क्यों यह किताब बनी CM केजरीवाल की पसंद, जिसे जेल में पढ़ने की जताई इच्छा

यह भी पढ़ें: Assam News: 'उनके पास कोई शक्ति नहीं है...', AIUDF प्रमुख ने कांग्रेस के 'ओल्ड टाइगर' टिप्पणी पर दिया करारा जवाब


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.