नई दिल्ली (एजेंसी)। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज नई दिल्ली में इराक में 2014 से लापता हुए 39 भारतीयों के परिजनों से मुलाकात की, इस दौरान विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर और जनरल वीके सिंह भी मौजूद थे। आपको बता दें कि इराक का मोसुल शहर कुख्यात आतंकी संगठन आइएसआइएस चुंगल से आजाद हो चुका है और इसके साथ ही भारत सरकार ने भी तीन वर्ष पहले वहां अगवा किए गए 39 भारतीयों का पता लगाने का काम तेज कर दिया है। अगवा किए गए 39 भारतीयों में 9 युवक पंजाब के भी हैं।

बीते रविवार को मोसुल के आजाद होते ही इन भारतीयों की खोज के लिए सरकार सक्रिय हो गई। विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने अगले ही दिन इराक पहुंचकर इरबिल और मोसुल का दौरा किया। सरकार का कहना है कि इराकी अधिकारियों ने भारतीय बंधकों का पता लगाने में हरसंभव मदद का भरोसा दिया है।

 

इराक से वीके सिंह ने भी ट्वीट किया, 'भारतीय बंधकों का सुराग लगाने के लिए मैं मोसुल में पेशमर्गा (आइएस के खिलाफ लड़ रहे कुर्दिश लड़ाके) के अग्रिम मोर्चे तक गया। पेशमर्गा अब भी आइएस के कब्जे वाले इलाकों पर अपना नियंत्रण स्थापित करने में लगे हैं।' इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा था, 'इराक में भारतीय राजदूत और इरबिल स्थित उच्चायोग के अधिकारियों को भारतीय बंधकों का पता लगाने के लिए प्रयास तेज करने के निर्देश दिए जा चुके हैं। इराकी अधिकारियों ने भी हमें इस काम में हरसंभव मदद का भरोसा दिया है।'

 

यह भी पढ़ें:  मोसुल में लापता 39 भारतीयों के लिए सरकार गंभीर

 

यह भी पढ़ें: मोसुल के मिशन पर जनरल, ढूंढ़ेंगे 39 भारतीय

 

Posted By: Kishor Joshi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस