Move to Jagran APP

छह महीने में डिस्काम का बकाया 24,689 करोड़ रुपये घटा, मंत्रालय ने दी जानकारी

बिजली मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि बिजली नियम 2022 के क्रियान्वयन के साथ डिस्काम के आपूर्तिकर्ताओं के बकाये में उल्लेखनीय सुधार देखने को मिला है। डिस्काम पर कुल बकाया तीन जून 2022 को 137949 करोड़ रुपये था।

By AgencyEdited By: Shashank MishraPublished: Wed, 30 Nov 2022 05:57 PM (IST)Updated: Wed, 30 Nov 2022 05:57 PM (IST)
छह महीने में डिस्काम का बकाया 24,689 करोड़ रुपये घटा, मंत्रालय ने दी जानकारी
वितरण कंपनियों ने पिछले पांच माह में मौजूदा बकाया के करीब 1,68,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है।

नई दिल्ली, पीटीआई। बिजली वितरण कंपनियों यानी डिस्काम पर बिजली उत्पादकों, पारेषण कंपनियों और व्यापारियों का बकाया पिछले छह माह में 24,680 करोड़ रुपये घटकर 1,13,269 करोड़ रुपये रह गया है। बिजली मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि बिजली (विलंब भुगतान अधिभार एवं संबद्ध मामले) नियम, 2022 के क्रियान्वयन के साथ डिस्काम के आपूर्तिकर्ताओं (बिजली उत्पादक, पारेषण कंपनियों और व्यापारियों) के बकाये में उल्लेखनीय सुधार देखने को मिला है। डिस्काम पर कुल बकाया तीन जून, 2022 को 1,37,949 करोड़ रुपये था।

loksabha election banner

चार मासिक किस्तों (ईएमआइ) के समय पर भुगतान से यह 24,680 करोड़ रुपये घटकर 1,13,269 करोड़ रुपये रह गया है। पांच राज्यों ने 24,680 करोड़ रुपये की ईएमआइ के भुगतान के लिए पावर फाइनेंस कारपोरेशन (पीएफसी) और आरईसी लिमिटेड से 16,812 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है जबकि आठ अन्य राज्यों ने इसके लिए अपनी खुद व्यवस्था की है।

Video: Delhi Electricity: Delhi में Free बिजली पाने के लिए कैसे करें आवेदन, जानें CM Arvind Kejriwal से

वितरण कंपनियों ने पिछले पांच माह में मौजूदा बकाया के करीब 1,68,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया है। अभी सिर्फ एक कंपनी जेबीवीएनएल ने मौजूदा बकाया का भुगतान नहीं करने से नियमन के तहत आई है।

ये भी पढ़ें: Fact Check story: न्यूयॉर्क सिटी की एम्पायर स्टेट बिल्डिंग पर 2015 में डिस्प्ले हुई थी देवी काली की तस्वीर

Delhi News: बिजली उपभोक्ताओं को भेजे जा रहे हैं फर्जी एसएमएस, TPDDL ने साइबर ठगी से बचने के लिए की ये अपील


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.