नई दिल्ली, पीटीआइ। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र भीषण चक्रवाती तूफान 'निवार' में बदल गया है। तूफान धीरे-धीरे तेज हो रहा है और इसके रात तमिलनाडु और पुडुचेरी के तट पर टकराने की संभावना है। इस दौरान 100-110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेगी, जो आगे चलकर 145 किमी प्रति घंटे तक पहुंच जाएगी। मौसम विभाग इसपर कड़ी नजर बनाए हुए है। चक्रवात का असर भी अब कई इलाकों में देखने को मिल रहा है। चेन्नई और कांचीपुरम में तेज बारिश शुरू हो गई है। तूफान के मद्देनजर दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने कल के लिए निर्धारित दो ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इसके अलावा चेन्नई से आने और जाने वाली 26 उड़ानों को भी रद कर दिया गया है।

Cyclone Nivar News HighLights:

- NDRF के महानिदेशक एसएन प्रधान ने कहा कि चक्रवात निवार के कारण 26 नवंबर को सुबह 2 बजे के बाद भूस्‍खलन हो सकता है। पूरे तमिलनाडु में एक लाख से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी में 1,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है। 

- राष्ट्रीय टेस्‍ट एजेंसी ने कहा कि 26 नवंबर (गणित विज्ञान और रसायन विज्ञान) को आयोजित यूजीसी नेट 2020 परीक्षा उन सभी परीक्षा केंद्रों के संबंध में अगली सूचना तक स्थगित कर दी गई है जो पुडुचेरी और तमिलनाडु में स्थित हैं।  

-  सीएम एडप्पादी के पलानीस्वामी ने कहा कि चक्रवात निवार के कारण चेन्नई, वेल्लोर, कुड्डलोर, विलुप्पुरम, नागापट्टिनम, तिरुवूर, चेंगलपट्टू, और पेरम्बलोर सहित तमिलनाडु के 13 जिलों में 26 नवंबर तक राज्यव्यापी सार्वजनिक अवकाश जारी रहेगा।

- चक्रवात निवार के कारण चेन्नई एयरपोर्ट पर विमान संचालन बुधवार शाम 7 बजे से बृहस्‍पतिवार सुबह 7 बजे तक निलंबित रहेगा।

- चक्रवाती तूफान निवार के मद्देनजर दक्षिण रेलवे ने 26 नवंबर की 7 ट्रेनें कैंसल की।

- भारी बारिश के बाद चेन्नई के पूनमल्ली के आसपास के क्षेत्र में गंभीर जल-जमाव हो गया है। तूफान की वजह से तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल के तंजावुर, तिरुवूर, नागापट्टिनम, कुड्डलोर, चेन्नई, कांचीपुरम, चेंगलपट्टू, मायलादुथिराई, अरियालुर, पेरम्बलुर, कल्लूराची, विल्लुपुरम, तिरुवन्नमलाई के अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी कि गई है।

- मुख्यमंत्री नारायणसामी ने कहा कि लोगों को घर के अंदर रहने की सलाह दी गई है। निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाना चाहिए। 80 केंद्रों की पहचान की गई है जहां भोजन और दवाइयां उपलब्ध कराई जा रही हैं। हम 12 घंटे के भीतर बिजली बहाल करेंगे।

- तूफान के खतरे को देखते हुए पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी ने कलापेट इलाके के आस-पास क्षेत्रों का जायज़ा लिया। ममल्लापुरम में तेज़ हवाएं के साथ बारिश हो रही है। आज मध्यरात्रि और कल सुबह निवार तूफान के कराईकल और ममल्लापुरम के बीच लैंडफॉल होने की संभावना है।

- मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चक्रवात निवार धीरे-धीरे तेज हो रहा है। यह संरचनात्मक क्षति, पेड़ों को उखाड़ने, टिन के घरों को नुकसान पहुंचाने, केले और धान की फसलों को बर्बाद करने में सक्षम है। इस दौरान तेज हवाएं और तेज बारिश होगी। सबसे अधिक प्रभाव पुडुचेरी और कराईकल में होगा।

- तमिलनाडु में तूफान निवार का असर देखने को मिल रहा है। चेन्नई में भारी बारिश के बाद कई इलाकों में जलभराव हो गया है। चक्रवाती तूफान निवार आज तमिलनाडु के तट से टकराएगा। विभाग के अनुसार चक्रवात निवार अगले 12 घंटों के दौरान एक गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा और यह पुडुचेरी के दक्षिण-पूर्व में 380 किलोमीटर और चेन्नई से 430 किमी दूरी पर है।

- तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों के आसपास कराईकल और मामल्लपुरम के बीच देर शाम तेज हवा के साथ चक्रवाती तूफान पहुंचेगा। तूफान के मद्देनजर तमिलनाडु और पड़ोसी केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के प्रशासन को अलर्ट पर रखा गया है और असुरक्षित इलाकों से लोगों को निकालने सहित एहतियाती उपाय सरकार द्वारा किए जा रहे हैं।

एनडीआरएफ की 22 टीमें तैनात

तूफान से तबाही की आशंका को देखते हुए एनडीआरएफ ने बचाव कार्य के लिए 22 टीमों को तैनात किया है, जिसमें कुल 1,200 जवान शामिल हैं। इसमें तमिलनाडु में 12, पुडुचेरी में तीन और आंध्र प्रदेश में सात टीमें हैं। वहीं, एनडीआरएफ मुख्यालय, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में स्थित बटालियनों के कमांडेंट संबंधित राज्य अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर और टीमों को गुंटूर (आंध्र प्रदेश), त्रिशूर (केरल) और मुंडली (ओडिशा) में रिजर्व रखा गया है।

केंद्र ने लिया तैयारियों का जायजा

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कमेटी (एनसीएमसी) ने भी निवार से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि तैयारी इस प्रकार की हो कि किसी की जान नहीं जाए तथा बिजली और दूरसंचार जैसी सेवाएं जल्द से जल्द बहाल की जा सकें। प्रभावित राज्यों को आपदा राहत फंड भी जल्द जारी किए जाने का आश्वासन दिया गया है।

चेन्नई में दिखने लगा असर

चक्रवात के असर से हो रही बारिश के कारण चेन्नई में सड़कों पर पानी भरने से जगह-जगह यातायात जाम होता रहा। अन्ना सलाई, जीएसटी रोड तथा काठीपाड़ा जंक्शन पर ज्यादा जाम देखा गया। इसके फोटो इंटरनेट मीडिया पर भी खूब चले। शहर में हालात पर नजर रखने के लिए 15 आइएएस अधिकारियों को लगाया गया है। चेन्नई महानगरपालिका 176 राहत शिविर चलाएगा।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021