चेन्नई, आइएएनएस/प्रेट्र। जैसी कि आशंका थी शक्तिशाली तूफान 'गज' शुक्रवार को तबाही के निशान छोड़कर तमिलनाडु तट से गुजर गया। यह गुरुवार रात 12.30 से 2.30 बजे के बीच 110 से 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से नागपट्टनम व वेदारानयम जिलों के समुद्री तट से टकराया। शुक्रवार शाम तक इसकी चपेट में आकर 22 लोगों की मौत हो चुकी थी।

मौसम विभाग के अनुसार, तूफान के असर से तमिलनाडु और पुडुचेरी के कई जिलों में भारी बारिश हो रही है। तमिलनाडु के तिरुवरुर जिले में सबसे अधिक 17 सेमी और तंजावुर में 16 सेमी वर्षा रिकॉर्ड की गई। जबकि कुड्डालोर जिले में 09 से 12 सेमी और नागपट्टनम जिले में छह सेमी बारिश दर्ज की गई। थोंडी, पमबन, कराईकल और पुडुचेरी में 05 से 10 सेमी तक वर्षा हुई है। तूफान अब कमजोर पड़ गया है और डिंडीगुल व थेनी होते हुए केरल में प्रवेश कर गया है।

16वीं सदी के चर्च को नुकसान
तूफान से नागपट्टनम जिले में वेलनकन्नी स्थित 16वीं सदी के बसीलिका चर्च को भी नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा राजमार्गों पर पेड़ गिरने की वजह से कई जगह ट्रैफिक थम गया। संचार व बिजली व्यवस्था भी गड़बड़ा गई है। पर्वतीय स्थल कोडाईकनाल के रास्ते पर पेड़ गिरने से वाहन फंस गए। शिक्षण संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया गया है और परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं।

वरदान बनी बारिश
मौसम विभाग के अनुसार, मानसूनी मौसम के दौरान राज्य में बारिश कम हुई थी। इस बारिश ने तिरुवरुर, तंजावुर और अन्य जिलों में बारिश की उस कमी को पूरा किया है। लिहाजा यह बारिश राज्य के लिए वरदान बनकर आई है।

मृतक आश्रितों को 10-10 लाख की सहायता
तमिलनाडु सरकार ने प्रत्येक मृतक के आश्रित को 10-10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को एक-एक लाख और सामान्य घायलों को 25 हजार रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है। इसके अलावा तूफान से फसलों, मछली पकड़ने वाली नौकाओं, मकानों और मवेशियों को हुए नुकसान का आकलन करने के निर्देश भी दिए गए हैं।

महामारी का फैलाव रोकने की कवायद
तूफान प्रभावित इलाकों में महामारी फैलने से रोकने के लिए 216 चिकित्सा शिविर लगाए गए हैं। इसके अलावा बिजली के खंभों को बदलने के लिए प्रभावित इलाकों में 7,000 खंभे भी रवाना कर दिए गए हैं।

तबाही के निशान

  • 06 जिले तमिलनाडु के और दो जिले पुडुचेरी के प्रभावित
  • 13 हजार बिजली के खंभे उखड़े
  • 13 स्थानीय वितरण ट्रांसफार्मर खराब
  • 03 जिलों में 102 विद्युत उपकेंद्र ठप
  • 01 हजार केबल क्षतिग्रस्त
  • 500 किमी लंबी बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त
  • 1471 झोपड़ियां आंशिक क्षतिग्रस्त
  • 216 झोपड़ियां पूरी तरह बर्बाद
  • 4,987 पेड़ तीन जिलों में उखड़े
  • 471 राहत शिविर तमिलनाडु में और 57 पुडुचेरी में स्थापित
  • 82 हजार लोग पहुंचे राहत शिविरों में

केंद्र हरसंभव मदद देगा : राजनाथ
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तमिलनाडु सरकार को तूफान से उत्पन्न हालात से निपटने के लिए हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया है। उन्होंने गृह सचिव राजीव गाबा को हालात पर नजर रखने और राज्य सरकार की पूरी मदद का निर्देश दिया। राजनाथ सिंह ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी से फोन पर बात भी की।

 

Posted By: Vikas Jangra