हैदराबाद, आइएएनएस। तेलंगाना पुलिस ने दिल्ली के तबलीगी जमात में शामिल हुए कोरोना वायरस से संक्रमित 10 इंडोनेशियाई लोगों पर कार्रवाई की है। हैदराबाद के गांधी अस्पताल में अपना इलाज पूरा करा चुके इन लोगों पर विदेशी अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन करने के लिए मामला दर्ज किया गया है।

जानकारी के मुताबिक यह सभी लोग दिल्ली में तब्लीगी जमात की बैठक में भाग लेने के बाद ट्रेन से करीमनगर पहुंचे थे। करीमनगर में इंडोनेशियाई नागरिकों को लाने वाले उनके दो एजेंट और चार स्थानीय लोगों पर भी महामारी रोग अधिनियम, आपदा प्रबंधन अधिनियम और भारतीय दंड संहिता के तहत आरोप लगाया गया है।

मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने सोमवार देर रात कहा कि करीमनगर पुलिस कमिश्नरेट के टाउन थाने ने स्वत: संज्ञान लेते हुए विदेशी अधिनियम की धारा 14 के तहत मामला दर्ज किया है। हालांकि, मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। इंडोनेशियाई लोगों ने अपना इलाज पूरा कर लिया है और उन्हें छुट्टी दे दी गई है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि दोनों एजेंटों और स्थानीय लोगों को विदेशियों की जानकारी और उनकी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में अधिकारियों को सूचित नहीं करने के लिए हिरासम में लिया गया है। विदेश नागरिक दो एजेंटों के साथ 14 मार्च को एपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से रामागुंडम पहुंचे थे। जहां से वो निजी वाहन द्वारा करीमनगर पहुंचे। सभी लोग शहर की एक मस्जिद में ठहरे हुए थे और तबलीगी गतिविधि का हिस्सा थे। दो दिन बाद स्वास्थ्य अधिकारियों ने उन सभी को हैदराबाद भेज दिया, जहां वो कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए।

बता दें कि तब्लीगी जमात के सम्मेलन के कारण काबू में चल रहे कोरोना संक्रमण के मामलों में अचानक बढ़ोत्तरी हुई है। स्वास्थ विभाग ने मंगलवार को सुबह 9 बजे तक के आंकड़े जारी करते हुए बताया है कि देश में अब तक कोरोना के कुल 4421 केस सामने आ चुके हैं। इनें 3981 केस अब भी ऐक्टिव हैं और 325 मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देशभर में कोरोना से 114 लोगों की मौत हुई है, जिनमें महाराष्ट्र के 45 लोग शामिल हैं।

Edited By: Manish Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट