नई दिल्ली, जेएनएन। चीन में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस को देखते हुए वहां रहने वाले भारतीय नागरिकों को लेकर सरकार की चिंता भी बढ़ती जा रही है। भारत सरकार लगातार चीन से संपर्क में है, ताकि जरूरत पड़ने पर ना सिर्फ भारतीयों को वहां से निकाला जा सके, बल्कि जब तक वे वहां हैं तब तक उन्हें राशन-पानी की कोई दिक्कत न हो। वुहान, शियानिंग, झिझियांग समेत 10 शहरों में यह वायरस फैल चुका है, जहां सैकड़ों भारतीय छात्र शिक्षा हासिल कर रहे हैं और उद्यमी भी कारोबार के सिलसिले में वहां जाते-आते रहते हैं।

बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास की तरफ से बताया गया है कि हुबेई प्रांत में रहने वाले भारतीयों के रिश्तेदारों की तरफ से लगातार उनसे संपर्क किया जा रहा है और सूचनाएं मांगी जा रही हैं। कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित वुहान हुबेई प्रांत की राजधानी है। दूतावास संबंधित विभागों के साथ ही वुहान स्थित प्रशासन से भी संपर्क में है। साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की तरफ से इस बारे में जारी होने वाली सूचनाओं के मद्देनजर भी कदम उठाए जा रहे हैं।

चीन सरकार ने भारत को आश्वस्त किया है कि वुहान में रहने वाले भारतीयों की सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। उन्हें खाद्य आपूर्ति भी की जा रही है। भारतीय छात्रों से सतर्क रहने को भी कहा गया है। बुखार होने पर तुरंत विश्वविद्यालय के अधिकारियों से संपर्क करने की सलाह दी गई है। भारतीय दूतावास ने दो हेल्पलाइन नंबर भी शुरू किए हैं, जिस पर फोन कर अपने रिश्तेदारों के बारे में जानकारी दी जा सकती है। ये नंबर हैं 8618612083629 और 8618612083617। इन्हें डायल करने से पहले प्लस लगाना होगा।

कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोना वायरस से पीडि़त मरीजों को तेज बुखार आता है। तेज ठंड लगती है और शरीर कांपने लगता है। सांस लेने में परेशानी होती है और खांसी भी आती है।

महाराष्ट्र में छह संदिग्ध मामले मिले

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के छह संदिग्ध मामले सामने आए है। इनमें से तीन मुंबई और तीन पुणे में है। ये सभी लोग हाल ही में चीन और हांगकांग से लौटे हैं। मुंबई में तीनों लोगों को निगम के कस्तूरबा अस्पताल में स्पेशल वार्ड में निगरानी में रखा गया है। इनके ब्लड सैंपल जांच के लिए पुणे स्थित लैब में भेजे गए हैं।

चीन और हांगकांग से लौटे थे ये लोग

मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर चीन से आने वाले लोगों की जांच में ये सामने पकड़ में आए। इनमें दो पुरुष और एक महिला है। जो 22 और 23 जनवरी को चीन और हांगकांग से लौटे थे। स्वास्थ्य सेवा निदेशालय की डॉ. अर्चना पाटिल ने बताया कि पुणे में कोरोना वायरस के तीन संदिग्ध मामलों पर भी मुंबई से नजर रखी जा रही है। फिलहाल लक्षण के आधार पर उन्हें दवाइयां दी जा रही हैं।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस