गुवाहाटी, एजेंसी। Himanta Biswa Sarma ULFA Talks: असम (Assam) के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) ने गुरुवार को उल्फा (आई) के सदस्यों से मुख्यधारा में लौटने का आग्रह किया। सीएम ने कहा कि उल्फा (आई) संगठन राज्य में शांति की राह में 'आखिरी मील' है। उन्होंने कहा कि एक बार बातचीत हुई तो असम शांति के मार्ग पर बढ़ जाएगा।

'राज्य विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है'

सीएम सरमा ने कहा, "ये वो असम नहीं है जो उल्फा के गठन के समय था। आज, राज्य तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है। लोगों की मानसिकता में बदलाव आया है और ये परिवर्तन उल्फा (आई) में दिखना चाहिए।'' सरमा ने 74वां गणतंत्र दिवस मनाने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में ये बात कही।

संपर्क में है सरकार

इससे पहले मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा था कि असम सरकार प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उल्फा (आई) नेतृत्व के साथ संपर्क में है ताकि उन्हें बातचीत की मेज पर लाया जा सके है। सीएम सरमा जिनके पास गृह विभाग भी है ने कहा था कि सरकार के साथ बातचीत के लिए परेश बरुआ के नेतृत्व वाले उल्फा (आई) को बातचीत की टेबल पर लाने का प्रयास किया जा रहा है।

बंद का आह्वान

इस बीच बता दें कि असम में प्रतिबंधित उग्रवादी संगठनों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर बंद का आह्वान किया है। साथ ही लोगों से गणतंत्र दिवस समारोह का बहिष्कार करने की अपील की। इस बीच, असम सहित पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

ये भी पढ़ें:

Republic Day 2023 Pics: गुजरात की झांकी ने दिखाई स्वच्छ ऊर्जा की झलक, तस्वीरों के जरिए देखें गणतंत्र दिवस

Republic Day 2023: संविधान लागू करने के लिए क्यों चुनी गई 26 जनवरी की तारीख, जानें इसका दिलचस्प इतिहास

Edited By: Devshanker Chovdhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट