अहमदाबाद, एजेंसियां। अहमदाबाद में सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को इंदिरा ब्रिज से जोड़ने वाले मार्ग के किनारे झुग्गी बस्ती है जिसमें तकरीबन 800 परिवार रहते हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इसी रास्ते से 'केम छो ट्रंप' कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जाएंगे। उनकी नजर इन झुग्गियों पर न पड़े इसके लिए इस बस्ती के बाहर सात फीट ऊंची दीवार बनाई जा रही है। हालांकि वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि यह दीवार झुग्गियों को छिपाने के लिए नहीं बल्कि सुरक्षा कारणों से बनाई जा रही है।

तकरीबन 400 मीटर लंबी इस दीवार का निर्माण कर रहे ठेकेदार का बयान सरकारी अधिकारियों के दावे को झुठलाता है। ठेकेदार ने बताया, 'सरकार नहीं चाहती कि जब ट्रंप यहां से गुजरें तो उनकी नजर इन झुग्गियों पर पड़े। मुझे जल्द से जल्द इस दीवार का निर्माण कार्य पूरा करने का आदेश दिया गया है, लिहाजा 150 से ज्यादा मिस्त्री काम पूरा करने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं।'

झुग्गियां छिपाना भी बताया जा रहा कारण

हालांकि कुछ सरकारी अधिकारियों का कहना है कि यह दीवार सौंदर्यीकरण और स्वच्छता अभियान का हिस्सा है। इस बाबत जब शहर के मेयर बिजल पटेल से सवाल किया गया तो उन्होंने इस संबंध में कोई जानकारी होने से इन्कार किया। उन्होंने कहा, 'मैंने इसे नहीं देखा है। मुझे इसके बारे में कुछ भी नहीं पता।'

भारतीय विदेश मंत्रालय के मुताबिक, अमेरिका के ह्यूस्टन में पिछले साल सितंबर में आयोजित 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम की तर्ज पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में 'केम छो ट्रंप' कार्यक्रम को संबोधित करने की संभावना है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021