राज्य ब्यूरो, कोलकाता । बंगाल में विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद जारी हिंसा पर केंद्र ने सख्त रुख दिखाया है। सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगे जाने के बाद मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को फोन कर हिंसा पर चिंता जताई और इसे रोकने के लिए कदम उठाने को कहा। प्रधानमंत्री और गृह मंत्रालय के सख्त रुख के बाद बंगाल की कार्यवाहक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार शाम अपने आवास पर राज्य के आला अधिकारियों के साथ अहम बैठक की।

इस बीच, कोलकाता पहुंचे भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमलों की निंदा करते हुए इसे देश विभाजन के समय की हिंसा सरीखा बताया। हिंसा की आंच सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंची जहां इसे रोकने व जांच के लिए दो याचिकाएं दायर की गई हैं। बंगाल में रविवार से ही लगातार हिंसा जारी है। मंगलवार को भी हिंसा की घटनाएं नहीं रुकीं और राज्य के अलग-अलग हिस्सों से उपद्रव की खबरें आती रहीं। बता दें कि भाजपा ने सोमवार को हिंसा में अपने नौ कार्यकर्ताओं के मारे जाने का आरोप लगाया था। हालांकि तृणमूल कांग्रेस ने इन आरोपों का खंडन किया है।

 प्रधानमंत्री ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ से फोन पर राज्य के हालात पर चिंता व्यक्त की। राज्यपाल ने मंगलवार दोपहर को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। राज्यपाल ने हिंसा को लेकर बंगाल के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) पी. नीरजनयन और कोलकाता के पुलिस कमिश्नर (सीपी) सोमेन मित्रा से तत्काल रिपोर्ट भी तलब की है।

हिंसा के शिकार भाजपा कार्यकर्ताओं के स्वजन से मिले नड्डा

भाजपा कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए जेपी नड्डा दो दिवसीय दौरे पर मंगलवार को कोलकाता पहुंचे और एयरपोर्ट पर उतरते ही सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पर जोरदार हमला बोला। उन्होंने कहा, बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद हिंसा की घटनाओं ने हमें दुखी और हैरान किया है। मैंने ऐसी घटनाओं के बारे में भारत के बंटवारे के वक्त सुना था। आजाद भारत में चुनाव परिणाम के बाद पहले कभी ऐसी असहिष्णुता नहीं देखी थी।

नड्डा ने हिंसा पर चेतावनी देते हुए कहा कि हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ाई के लिए तैयार हैं। नड्डा ने दक्षिण 24 परगना तथा कोलकाता के बेलेघाटा में हिंसा के शिकार भाजपा कार्यकर्ताओं के घर जाकर उनके स्वजन से मुलाकात की। इस दौरान नड्डा के साथ भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव एवं कैलाश विजयवर्गीय समेत प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष भी मौजूद थे। बंगाल में हिंसा के खिलाफ भाजपा बुधवार को पूरे देशभर में धरना देगी। कोलकाता में नड्डा खुद धरने पर बैठेंगे।

ममता ने दिया हिंसा रोकने का आदेश

चौतरफा दबाव के बीच कार्यवाहक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार शाम अपने कालीघाट स्थित आवास पर वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक में हिंसा पर अंकुश लगाने व इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कठोर निर्देश दिए। बैठक में मुख्य सचिव, गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) व कोलकाता के पुलिस कमिश्नर समेत अन्य आला अधिकारी मौजूद थे। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी ट्वीट कर हिंसा की निंदा करते हुए ममता बनर्जी से कार्रवाई करने की अपील की है।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने लिया स्वत: संज्ञान

बीरभूम जिले के नानूर से भाजपा उम्मीदवार तारक साहा की पोलिंग एजेंट बनी दो महिला कार्यकर्ताओं से टीएमसी के लोगों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म किए जाने की घटना पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है। राष्ट्रीय महिला आयोग की प्रमु्ख रेखा शर्मा बुधवार को बंगाल आ रही हैं और वह टीम के सदस्यों के साथ पीडि़त महिलाओं से मुलाकात करेंगी।

जानें- बंगाल हिंसा पर क्या बोले राज्यपाल

'पीएम ने फोन किया और कानून-व्यवस्था की स्थिति पर गंभीर पीड़ा और चिंता व्यक्त की। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मैं इन गंभीर चिंताओं को साझा करता हूं। हिंसा, आगजनी, लूट और हत्याएं बेरोकटोक जारी हैं। इन्हें रोका जाना जरूरी है।'

-जगदीप धनखड़, राज्यपाल, बंगाल