नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के कर्मियों को जल्द ही आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों को आयुष्मान भारत के तहत स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने का यह अपनी तरह की पहली पहल है। इस पहल का लक्ष्य सीएपीएफ कर्मचारियों और उनके आश्रितों को मुफ्त में चिकित्सा सुविधा मुहैया कराना है।

अधिकारी ने कहा कि असम राइफल्स, सीमा सुरक्षा बल, सशस्त्र सीमा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के कर्मचारियों और उनके आश्रितों को इस योजना का लाभ मिलेगा। सीएपीएफ कर्मियों को आयुष्मान भारत योजना के तहत लाए जाने से उनको और उनके आश्रितों को इस पैनल में शामिल अस्पतालों में चिकित्सा सुविधा मिल सकेगी। शुरुआती दौर में हरियाणा के गुरुग्राम में सभी बलों के लिए पायलट परियोजना चलाई जा रही है। बाद में इसका विस्तार पूरे राज्य में किया जाएगा।

अब तक 1.26 करोड़ लाभार्थियों को मिला मुफ्त इलाज

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Health Minister Harsh Vardhan) ने संसद के मानसून सत्र के दौरान कहा था कि आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेएवाई) के तहत 1.26 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को मुफ्त इलाज मुहैया कराया गया। उन्होंने बताया था कि 2018 में योजना के शुरू होने के बाद से अब तक 12.5 करोड़ ई-कार्ड जारी किए गए हैं।

एबी-पीएमजेएवाई के दो साल पूरे होने पर 'आरोग्य मंथन' 2.0 की अध्यक्षता कर रहे हर्षवर्धन ने कहा कि योजना के तहत आर्थिक और सामाजिक रूप से कमजोर 53 करोड़ भारतीयों को लाया गया है। इसके तहत हर पात्र परिवार को पांच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर मिला हुआ है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस योजना के तहत अब तक 15,500 करोड़ रुपये से अधिक का इलाज मुहैया कराया जा चुका है। इसकी वजह से न सिर्फ करोड़ों लोगों की जान बची है, जबकि महंगे इलाज की वजह से कई घर भी उजड़ने से बच गए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस