नई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। मौजूदा समय में चीन, भारत, अमेरिका, इंडोनेशिया, पाकिस्तान, ब्राजील, नाइजीरिया, बांग्लादेश, रूस और मेक्सिको दुनिया के 10 सबसे अधिक आबादी वाले देश हैं, लेकिन 2100 तक कई देशों को पीछे छोड़ते हुए अफ्रीकी देश कांगो, इथियोपिया, तंजानिया, नाइजीरिया और मिस्न शीर्ष 10 देशों में शामिल हो जाएंगे। संयुक्त राष्ट्र की ही द वल्र्ड पॉपुलेशन प्रॉसपेक्ट्स 2019 रिपोर्ट के मुताबिक , भारत में 2050 तक 27.30 करोड़ लोग बढ़ जाएंगे। अभी भारत की आबादी करीब 137 करोड़ है।

सूची से गायब हो जाएंगे यूरोपीय देश

आंकड़ों के मुताबिक, कम दर से कुछ एशियाई देशों की आबादी बढ़ती रहेगी। वहीं, चीन और बांग्लादेश की आबादी कम होने की उम्मीद इस रिपोर्ट में जताई गई है। साल 1950 में दस में से चार सर्वाधिक आबादी वाले देश यूरोप के थे। यह संख्या 2020 में घटकर एक रह जाएगी और 2100 तक इस सूची में यूरोप का एक भी देश नहीं रहेगा।

200 करोड़ बढ़ जाएगी दुनिया की आबादी

चीन की जनसंख्या 143 करोड़ है। चीन में दुनिया की 19 और भारत में 18 फीसद आबादी रहती है। 32.90 करोड़ की आबादी के साथ अमेरिका तीसरे और 27.10 करोड़ के इंडोनेशिया चौथे नंबर पर है। 2050 तक पूरी दुनिया की आबादी में 200 करोड़ का इजाफा होगा और कुल आबादी बढ़कर 970 करोड़ हो जाएगी।

कम हो रही बच्चों की संख्या

रिपोर्ट में यह भी सामने आया है कि दुनियाभर में जन्म लेने वाले बच्चों की संख्या पहले से कम हो रही है, लेकिन मौजूदा समय में प्रति महिला 2.5 बच्चे पैदा होने के साथ दुनिया की आबादी अभी भी बढ़ रही है। संयुक्त राष्ट्र के शोधकर्ताओं ने पाया कि अगर वैश्विक प्रजनन दर मौजूदा दर पर गिरती रही, तो यह 2100 में प्रति महिला 1.9 बच्चों तक पहुंच जाएगी।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस