नई दिल्ली, प्रेट्र। कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के लिए एक अच्छी खबर है। प्रमुख जैव प्रौद्योगिकी कंपनी, बायोकॉन ने सोमवार को कहा कि वह मध्यम से लेकर गंभीर कोविड​​-19 रोगियों के उपचार के लिए बायोलॉजिक दवा इटोलिज़ुमाब पेश करेगी जिसकी कीमत लगभग 8,000 प्रति शीशी होगी। कंपनी ने कहा है कि उसे कोविड-19 के कारण मध्यम से लेकर गंभीर तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम (एआरडीएस) के मामले में साइटोकाइन रिलीज सिंड्रोम के उपचार के लिए भारत में आपातकालीन उपयोग के लिए इटोलिज़ुमाब इंजेक्शन (25 मिग्रा/पांच मिली लीटर) के विपणन की भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) से मंजूरी प्राप्त हुई है।

बायोकॉन ने इससे पहले एक नियामकीय सूचना में कहा था कि इटोलिज़ुमाब दुनिया का कहीं भी स्वीकृत पहला नोवल बायोलॉजिकल उपचार है, जिसमें कोविड​​-19 की गंभीर जटिलताओं से पीड़ित रोगियों का इलाज किया जाता है।

बायोकॉन के कार्यकारी अध्यक्ष किरण मजदार-शॉ ने कहा कि जब तक वैक्सीन नहीं आती है, तब तक हमें जीवन रक्षक दवाओं की जरूरत होती है। मुझे लगता है कि हम दुनिया भर में जो कर रहे हैं, वह यह है कि हम इस महामारी के इलाज के लिए दवाओं का पुन: उपयोग कर सकते हैं या नई दवाओं का विकास कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि भले ही हमें इस साल के अंत तक या अगले साल की शुरुआत में कोई टीका मिल जाए, लेकिन इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि दोबारा संक्रमण नहीं होगा, इस बात की भी कोई गारंटी नहीं है कि जिस तरह से हम इसके काम करने की उम्मीद कर रहे हैं, यह उसी तरह से काम करेगा। इसलिए हमें तैयार रहने की जरुरत है।

भारत में 3 लाख से अधिक सक्रिय मामले

बता दें कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक 13 जुलाई तक कोरोना वायरस संक्रमितों के 1,20,92,503 सैंपल्स का टेस्ट किया गया। इनमें से 2,86,247 सैंपल्स का 13 जुलाई को टेस्ट किया गया। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 28,498 नए मामले सामने आए हैं और 553 मौतें हुई हैं। कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 9,06,752 हो गई है जिसमें 3,11,565 सक्रिय मामले है। इन सबके बीच अच्छी खबर है कि 5,71,460 ठीक हो गए हैं। भारत में अब तक 23,727 मौत हुई है।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस