बेंगलुरु, एएनआइ। बेंगलुरु में सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर हिंसा भड़क गई है। इस दौरान हालात को काबू करने के लिए पुलिस को फायरिंग भी करनी पड़ी, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई। वहीं, एक अन्य शख्स को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अचानक भड़की हिंसा में 60 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। वहीं, मामले में पुलिस ने अबतक 145 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालात को देखते हुए इलाके में CRPF और CISF की कुछ कंपनियों को भी तैनात किया गया है। कर्नाटक के सीएम येदियुरप्‍पा ने घटना के पीछे जिम्‍मेदार लोगों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की बात कही है।

कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने बेंगलुरु हिंसा पर कहा कि यह निर्णय लिया गया है कि जिला मजिस्ट्रेट घटना की जांच करेंगे। अब तक 146 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

वहीं, बेंगलुरु हिंसा पर कर्नाटक के मंत्री सीटी रवि ने कहा कि दंगे की योजना बनाई गई थी। संपत्ति के विनाश में पेट्रोल बम और पत्थरों का इस्तेमाल किया गया। 300 से अधिक वाहन जल गए। हमारे पास संदिग्ध हैं, लेकिन जांच के बाद ही पुष्टि हो सकती है। हम उत्तर प्रदेश की तरह दंगाइयों से संपत्ति की वसूली करेंगे।

बेंगलुरु के डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस थाना इलाके में देर रात ये हिंसा हुई,जिसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इसके साथ ही बेंगलुरु में धारा 144 लगाई गई है। सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट शेयर करने के आरोपी नवीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक, अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। RAF, CRPF और CISF की कुछ कंपनियों को भी तैनात किया गया है।

पुलिस ने सुनाई आपबीती

बेंगलुरु सिटी पुलिस कमिश्नर कमलकांत ने बताया कि फेसबुक पोस्ट के बाद लोग उस इलाके में इकट्ठा हो गए। हमारे ऑफिसर ने उन्हें हालात समझाने की कोशिश की। वो तत्काल गिरफ्तारी और अपने लिए सुरक्षा की मांग कर रहे ​थे। जब उन्हें समझाया गया कि ये इस तरह से नहीं हो सकता तो वो गुस्सा हो गए और पत्थरबाजी करने लगे। इस दौरान वाहनों में आग लगा दी गई और उन्हें ​क्षतिग्रस्त किया गया। एक ग्रुप बेसमेंट में गया और वहां करीब 200-250 वाहनों में आग लगा दी।

सरकार को पूरा समर्थन: शिवकुमार

बेंगलुरु हिंसा की की निंदा करते हुए कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डीके शिवकुमार ने कहा कि हमारी पार्टी इस घटना की कड़ी निंदा करती है। मैंने आज हमारे विधायकों की बैठक बुलाई है। मैंने हमारे नेता सिद्धारमैया से बात की है, हम शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए सरकार को पूरा समर्थन देंगे।

अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई: येदियुरप्‍पा

उन्होंने कहा कि अपराधियों के खिलाफ आदेश जारी किए गए हैं और स्थिति पर काबू पाने के लिए सरकार ने सभी संभव कदम उठाए हैं। पत्रकारों, पुलिस, जनता पर हमला अस्वीकार्य है। सरकार ऐसे उकसावों और अफवाहों को बर्दाश्त नहीं करेगी। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दंगाइयों से मंदिर को बचाया

मंगलवार रात दंगा भड़कने के बाद कुछ मुस्लिम युवाओं ने डीजे पुलिस स्‍टेशन के इलाके में एक मंदिर के आसपास मानव श्रृंखला श्रंखला बनाकर दंगाइयों से उसका बचाव किया।

दो थाना क्षेत्रों में जोरदार प्रदर्शन

इतने पर ही लोगों का गुस्सा कम नहीं हुआ और उन्होंने डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस थाना इलाके में जोरदार प्रदर्शन किया। बताया जा रहा कि इसी दौरान हंगामा बढ़ने पर पुलिस ने भीड़ को हटाने की कोशिश की, आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। इसी बीच अचानक हिंसा भड़क उठी, जिसमें पुलिसकर्मियों को भी निशाना बनाया गया।

जानें- क्यों भड़की हिंसा

बता दें कि पूरा हंगामा एक भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट की वजह से हुआ। दरअसल, बेंगलुरु में कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे ने सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर कथित भड़काऊ पोस्ट किया था। हालांकि, बाद ये पोस्ट डिलीट भी कर दी गई। बावजूद इसके कथित भड़काऊ पोस्ट को लेकर बड़ी संख्या उपद्रवियों ने विधायक श्रीनिवास मूर्ति के बेंगलुरु स्थित आवास पर हमला कर दिया और जमकर तोड़फोड़ की। इस दौरान आगजनी भी की गई। भीड़ ने पुलिस पर भी पथराव किया। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने फायरिंग की, जिसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया।

यह भी देखें: बेंगलुरु में पुलिस फायरिंग में 2 की मौत, लगा कर्फ्यू, जानें पूरा घटनाक्रम

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस