नई दिल्ली, एएनआइ। सेना दिवस के मौके पर आर्मी डे परेड को संबोधित करते हुए सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने देश को भरोसा दिलाते हुए कहा कि गलवान में शहीद हुए जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। इस दौरान उन्होंने चीन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सभी जानते हैं कि पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनाव चल रहा है। बार्डर की स्थिति में बदलाव की कोशिश करने पर उचित जवाब दिया गया है और आगे भी दिया जाएगा। उन्होंने कहा की सीमा पर हालात पिछले साल से बेहतर है।

300-400 पाक आतंकी सीमा में घुसपैठ की फिराक में

आर्मी चीफ ने पाकिस्तान को चेताते हुए कहा कि भारतीय सेना ने इस साल 200 से ज्यादा आतंकी मारे हैं, और आगे भी इस तरह की कार्रवाई जारी रहेगी। वहीं उन्होंने जानकारी दी कि 300 से 400 आतंकी भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की फिराक में लांचिंग पैड पर बैठे हैं। इस साल सीजफायर उल्लंघन के मामलों में 44% इजाफा हुआ है जो पाक की नापाक हरकतों को दर्शाता है।

चीन के साथ 14वीं बैठक सकारात्मक रही

जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा कि पिछले साल चीन के तनाव के कारण सेना के लिए चुनौतीपूर्ण स्थिति थी और हाल ही में हुई 14वीं बैठक में स्थिति को नियंत्रण में रखने का प्रयास किया गया है। उन्होंने कहा कि इस बैठक में कई बिंदुओं पर सकारात्मक बातचीत हुई है।

चीन और पाकिस्तान दोनों को दिया कड़ा संदेश

चीन और पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए नरवणे ने चेताया कि कोई भी भारतीय सेना के सब्र की परीक्षा न ले। उन्होंने कहा कि सेना चीन के साथ विवाद को बातचीत और राजनीतिक स्तर पर हल करने की कोशिश कर रही है लेकिन किसी को सेना के धैर्य की परीक्षा लेने की गलती नहीं करनी चाहिए, नहीं तो अंजाम बुरे होंगे।

यह भी पढ़ें-

पीएम मोदी ने सेना दिवस पर जवानों के शानदार योगदान को किया याद, भारतीय सेना ने भी वीडियो के जरिए किया सलाम

Edited By: Mahen Khanna