नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। आज देश की सशस्त्र सेनाओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने का दिन है, जिसे प्रतिवर्ष सशस्त्र सेना झंडा दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन उन जांबाज सैनिकों के प्रति एकजुटता दिखाई जाती है, जिन्होंने देश के दुश्मनों से मुकाबला करते हुए अपनी जान हंसते हुए न्यौछावर कर दी। इन शहीदों और इनके परिवार को इस दिन नमन किया जाता है।

इस दिन सशस्त्र सेना के शहीदों जवानों के परिवार की मदद के लिए धनाराशि भी एकत्र की जाती है। यह धनराशि लोगों को गहरे लाल व नीले रंग के झंडे का स्टीकर देकर एकत्रित की जाती है। लोग रुपये देकर इस स्टीकर को खरीदते हैं। यह राशि झंडा दिवस कोष में जमा कराई जाती है। इस कोष से युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के परिवार या घायल सैनिकों के कल्याण व पुनर्वास में सहायता की जाती है। सैनिक कल्याण बोर्ड इस राशि को खर्च करता है।

सशस्त्र सेना झंडा दिवस हर साल सात दिसंबर को मनाया जाता है। 23 अगस्त 1947 को केंद्रीय मंत्रीमंडल की रक्षा समिति ने युद्ध दिग्गजों और उनके परिवार के कल्याण के लिए झंडा दिवस मनाने की घोषणा की थी। इसके बाद सात दिसंबर 1949 से झंडा दिवस की शुरूआत हुई। बाद में वर्ष 1993 से इसे सशस्त्र सेना झंडा दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

सशस्त्र सेना झंडा दिवस देश के हर कोने में मनाया जाता है। इसमें सभी सरकारी कर्मचारी व अधिकारी समेत देश के आम नागरिक भी झंडा खरीदकर अंशदान करते हैं। निजी कंपनियों, स्कूलों व कॉलेजों समेत कई गैर सरकारी व निजी संस्थाओं में भी सशस्त्र सेना झंडा दिवस मनाया जाता है।

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप