संवाद सूत्र, अटारी। भारत ने शनिवार को पाकिस्तान से मधुर संबंध बनाते हुए नौ और पाकिस्तानी मछुआरे कैदियों को रिहा किया है। ये कैदी गलत तरीके से भारत में दाखिल हो गए थे। भारत ने शुक्रवार को भी आतंकी समेत 16 पाक कैदियों को रिहा किया था।

शनिवार को पाकिस्तानी नागरिक मछुआरे कैदियों को सख्त सुरक्षा प्रबंधों में अटारी सीमा पर लाया गया। इमीग्रेशन व कस्टम की कागजी कार्रवाई के बाद इनको अंतरराष्ट्रीय अटारी-वाघा सड़क सीमा के रास्ते पाकिस्तान भेज दिया गया है।

कैदियों को बीएसएफ के सहायक कमांडेंट रण सिंह ने पाकिस्तानी रेंजर के डिप्टी सुपरिटेडेंट असीम जलील के हवाले कर दिया। रिहा मछुआरा मोहम्मद अनवर ने कहा कि उन्होंने गुजरात की जामनगर जेल कच्छ भुज में 27 महीने की सजा काटी है। वह मछलियां पकड़ते समय समुंदर में तूफान आने के कारण भारतीय सीमा में दाखिल हो गए थे।

उन्होंने कहा कि समुंदर में सीमा का पता नहीं चलता है। इस कारण दोनों देशों की सरकारों को फैसला करना चाहिए कि मछुआरों से आपत्तिजनक सामग्री न मिले तो मौके पर संबंधित देश को वापस कर देना चाहिए। दोनों देशों की सरकारों को मछुआरों की किश्ती भी वापस देनी चाहिए क्योंकि उनका मुख्य व्यवसाय मछली पकड़ कर अपने परिवार का पेट पालना है।

पढ़ेंः पाकिस्तानी जेलों में बंद हैं 403 भारतीय

मछुआरों के हितों को नुकसान पहुंचा रही सरकार

Posted By: Sachin k

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस