नई दिल्ली, एजेंसी।  लोकप्रिय प्रमुख प्रगतिशील शायर और फिल्म गीतकार/हीर राँझा और कागज के फूल के गीतों के लिए प्रसिद्ध कैफी आजमी की मंगलवार को 101वीं जयंती है। कैफी आजमी 20 वीं सदी के भारत के सबसे प्रसिद्ध कवियों में से एक थे। Google ने भी देश के प्रसिद्ध कवि, गीतकार और कार्यकर्ता कै़फी आज़मी की जयंती पर डूडल बनाकर उनकी जयंती मनाई।

1919 में उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में जन्मे सैयद अतहर हुसैन रिज़वी, कैफ़ी आज़मी ने अपनी पहली कविता 11 साल की उम्र में लिखी थी। वह महात्मा गांधी के 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन से प्रेरित थे और बाद में एक उर्दू अखबार के लिए लिखने के लिए मुंबई से चले गए।

कैफ़ी आज़मी ने 1943 में अपनी पहली कविता Jhankar को प्रकाशित किया और प्रभावशाली प्रगतिशील लेखक संघ के सदस्य बने जिन्होंने लेखन का उपयोग सामाजिक आर्थिक सुधारों को प्राप्त करने के लिए किया। कैफ़ी आज़मी ने अपने काम के लिए कई पुरस्कार जीते, जिनमें तीन फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार, साहित्य और शिक्षा के लिए प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार और साहित्य अकादमी फैलोशिप (भारत के सर्वोच्च साहित्यिक सम्मानों में से एक)।

अपनी शुरुआती और सबसे प्रसिद्ध कविताओं में, 'औरत' में कैफ़ी आज़मी ने महिलाओं की समानता के लिए बात की। उन्होंने ग्रामीण महिलाओं और परिवारों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए विभिन्न शैक्षिक पहलों का समर्थन करने के लिए एक एनजीओ की स्थापना की। बता दें कि कैफ़ी आज़मी दिग्गज अभिनेत्री शबाना आज़मी के पिता हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021